नई दिल्ली: कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर बड़ा हमला बोला है. मणिशंकर ने कहा कि मां-बेटे के रहते कांग्रेस में किसी का भला नहीं हो सकता. मणिशंकर अय्यर ने कहा कि कांग्रेस में सोनिया या राहुल गांधी के अलावा कोई तीसरा नेता अध्यक्ष पद की चाह रख ही नहीं सकता. मणिशंकर अय्यर ने दोनों पर वंशवाद का आरोप लगाया और कहा कि वंशवाद गांधी परिवार से शायद कभी खत्म भी नहीं होने वाला. मणिशंकर अय्यर ने कहा कि कांग्रेस में उनकी हालत वही है, जो बीजेपी में यशवंत सिन्हा, अरुण शौरी या शत्रुघ्न सिन्हा की है.
 
 
अय्यर ने ये भी कहा कि कांग्रेस भले ही उन्हें अपना न मानती हो, लेकिन मैं जन्म से ही कांग्रेस की विचारधारा से जुड़ा हुआ हूं. जब तक सक्रिय रहेंगे, पार्टी में रहकर काम करेंगे. उन्होंने कहा कि वे कांग्रेस वर्किंग कमेटी का चुनाव लड़ेंगे और इससे मुझे कोई नहीं रोक सकता. उन्होंने कहा कि चुनाव के बाद मुझे कोई भी पद मिले, मैं उसका पूरी जिम्मेदारी के साथ निर्वहन करूंगा और कांग्रेस को आगे बढ़ाऊंगा. 
 
 
अय्यर ने राज्यसभा सांसद शौरी को कांग्रेस में आने का निमंत्रण दिया और कहा कि मैं उनको निमंत्रण देता हूं कि वह कांग्रेस में आएं, उनका यहां खुले दिल से स्वागत है. उन्होंने कहा कि मैंने कभी ये नहीं कहा कि चाय वाला कभी प्रधानमंत्री नहीं बन सकता, मीडिया ने मेरे बयान को तोड़मरोड़ कर पेश किया. मोदी का परिवार कैंटिन चलाता था, लिहाजा वह कभी-कभार वहां जाकर बैठ जाया करते थे. 

 
बता दें कि इससे पहले भी वह कांग्रेस में बदलाव की बाद कर चुके हैं. उन्होंने कहा था कि कोई मूर्ख ही ऐसा कह सकता है कि 2019 में नरेंद्र मोदी को अकेले हराया जा सकता है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस की नेतृत्व में बदलाव का ये सही वक्त है. राजनीति में बने रहने के लिए कांग्रेस को दोबारा अपनी स्ट्रैटेजी और बदलाव के बारे में सोचना चाहिए. उन्होंने कहा, “जरूरत है कि हम एक पार्टी की जगह एक गठबंधन बनाएं. मजबूत क्षेत्रीय नेताओं को आगे ना बढ़ा पाना हमारा सबसे बड़ा फेलियर रहा, जिसकी वजह से हमें लगातार चुनावों में हार झेलनी पड़ी.”