नई दिल्ली: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी अगले महीने यानी अक्टूबर से पार्टी की कमान संभाल सकते हैं. इस बात के संकेत कांग्रेस नेता वीरप्पा मोइली ने दिए हैं. मोइली ने बताया कि राहुल गांधी अगले महीने कांग्रेस अध्यक्ष बन सकते हैं. साथ ही उन्होंने बताया कि राहुल गांधी आंतरिक चुनाव के जरिये पार्टी अध्यक्ष बनना पसंद करेंगे. बता दें कि कुछ दिन पहले ही राहुल ने संकेत दिए हैं कि अगर पार्टी उनसे अध्यक्ष पद संभालने के लिए कहती है तो वह इस जिम्मेदारी के जरुर संभालेंगे. मोइली ने बताया कि अगर राहुल पार्टी के अध्यक्ष बनते हैं तो कांग्रेस के लिए यह एक गेम चेंजर साबित होगा. वह जल्द ही पार्टी की कमान संभाल सकते हैं. उन्होंने कहा कि यह न सिर्फ पार्टी के लिए अच्छा होगा बल्कि देश के लिए भी अच्छा होगा. अब इसी को लगता है कि राहुल को अध्यक्ष बनाने में काफी देर हो गई है. अब संगठन राहुल के अध्यक्ष बनने के चुनाव का इंतजार कर रहा है.
 
पूर्व मंत्री ने कहा कि राहुल गांधी सिर्फ चुनाव के जरिए ही अखिल भारतीय कांग्रेस समिति (AICC) का अध्यक्ष बनना चाहते हैं. उन्होंने बताया कि राज्यों में आंतरिक चुनाव की प्रकिया इस महीने के आखिरी तक पूरे होने की उम्मीद है, जिसके बाद AICC स्तर पर भी इसका पालन होगा. वहीं मोइली ने बताया कि राहुल अध्यक्ष बनते ही सबसे पहले राज्यों के प्रभारी और उनके संगठन में बड़ा बदलाव करेंगे. बता दें कि राहुल गांधी भी अपनी टीम बनाने पर लंबे समय से काम कर रहे हैं और इस सिलसिले में वो देश भर के 300 से ज्यादा पार्टी नेताओं से वन-टू-वन बैठक कर चुके हैं. माना जा रहा है कि राहुल की टीम में ज्यादातर युवा चेहरों को जगह दी जाएगी जिससे संदेश जाए कि पार्टी अब युवाओं के हाथ में है.
 
रिपोर्ट्स के मुताबिक  कांग्रेस के संविधान के हिसाब से पहले कांग्रेस वर्किंग कमिटी की बैठक बुलाई जाएगी और फिर एआईसीसी का सम्मेलन बुलाकर नए अध्यक्ष का औपचारिक चुनाव हो सकता है. पार्टी संगठन में फेरबदल कांग्रेस अध्यक्ष के हाथ की बात है जो वो बाद में कर सकते हैं.  राहुल के अध्यक्ष बनने पर एक स्थिति ये हो सकती है कि सोनिया गांधी की टीम के सारे पदाधिकारी खुद ही पदों से इस्तीफा दे दें और राहुल को नए सिरे से अपनी टीम चुनने का मौका दें. दूसरी स्थिति तो ये है कि जिन लोगों को पद से हटाना है, उनके पद पर नई नियुक्ति कर दी जाए. ये देखना दिलचस्प होगा कि राहुल किस तरह से अपनी टीम बनाते हैं.