नई दिल्ली. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार शिंदे ने शनिवार को इसका जोरदार खंडन किया कि उन्होंने संसद में ‘हिंदू आतंकवाद’ शब्द का इस्तेमाल किया था जैसा कि केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने दावा किया है. आपको बता दें कि बीजेपी नेता रविशंकर प्रसाद ने आरोप लगाया है कि कांग्रेस नेताओं ने जानबूझकर ‘हिंदू आतंकवाद’ शब्द को बढ़ावा दिया है. 

राजनाथ सिंह ने भी संसद में कहा था कि संप्रग शासनकाल के दौरान तत्कालीन गृह मंत्री ने सदन में ‘हिंदू आतंकवाद’ शब्द का इस्तेमाल किया जिसके परिणामस्वरूप आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई ‘कमजोर’ हुई.

शिंदे आरोपों से किया इनकार
शिंदे ने आरोप से इनकार करते हुए कहा, ‘मैंने कभी भी संसद में हिंदू आतंकवाद शब्द का इस्तेमाल नहीं किया. मैंने इस तरह के शब्दों का इस्तेमाल जयपुर में पार्टी के एक मंच पर किया था लेकिन मैंने तत्काल स्वयं को सुधार लिया और उसे वापस ले लिया क्योंकि आतंकवाद की कोई जाति, पंथ या धर्म नहीं होता.’ 

शिंदे ने कहा, ‘2000-2001 में एयर इंडिया की एक उड़ान का अपहरण करके उसे कंधार ले जाया गया था. तत्कालीन सरकार के मंत्री ने तब अपहरणकर्ताओं की ओर से रखी गई शर्तें मानी और मौलाना मसूद और उमर शेख सहित तीन आतंकवादियों को कंधार पहुंचाया.’ उन्होंने दावा किया कि इससे आतंकवादियों के हौसले बढ़े जिससे लाल किले और संसद भवन परिसर पर आतंकवादी हमले हुए. उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार में बढ़े हुए आतंकवादी हमलों को नियंत्रित करने की क्षमता की कमी है.

क्या कह रही है बीजेपी
आजाद के बयान पर बीजेपी ने तुरंत और तगड़ा पलटवार किया है. केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि पार्टी सोनिया गांधी से जानना चाहती है कि क्या वह राहुल गांधी और अन्य कांग्रेस नेताओं के हिंदू आतंकवाद के तमाम आरोपों से सहमत हैं. प्रसाद ने कहा कि राहुल गांधी ने एक बार अमेरिकी राजदूत से कहा था कि हिंदू आतंकवाद के मुकाबले लश्कर-ए-तैयबा कम खतरनाक है. लश्कर के सक्रिय होने और भारत को आसन्न खतरे के बारे में अमेरिकी राजदूत के सवाल के जवाब में राहुल गांधी ने कहा था कि भारतीय मुसलमानों के कुछ हिस्सों में लश्कर के लिए समर्थन देखा गया है. लेकिन राहुल गांधी ने कहा था कि बड़ा खतरा कट्टर हिंदू संगठनों की तरफ से है जो मुस्लिम समुदाय के साथ तनाव और राजनैतिक विवाद पैदा कर रहे हैं.

रविशंकर प्रसाद ने ये बातें ब्रिटिश अखबार द गार्डियन के हवाले से कहीं. प्रसाद ने यह भी साफ कर दिया कि उनकी पार्टी ने कभी भी मुस्लिम आतंकवाद की बात नहीं की. पार्टी ने हमेशा जेहादी आतंकवाद कहा. प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस सरकार के तत्कालीन गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने कहा था कि भारत हिंदू आतंकवाद को लेकर चिंतित है. फिर चिदंबरम ने भी भगवा आतंकवाद की बात कही. बीजेपी का रुख इस मामले में साफ है और वह यह कि आतंकवाद का कोई धर्म नहीं होता. बीजेपी कभी भी मुस्लिम आतंकवाद की बात नहीं करती. पार्टी ने हमेशा जेहादी आतंकवाद का ही मुद्दा उठाया है.

एजेंसी इनपुट भी