नई दिल्ली. ‘हिंदू आतंकवाद’ के मुद्दे पर सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और कांग्रेस के बीच जमकर शब्दों के तीर चल रहे हैं. कांग्रेस ने आरोप लगाया कि केंद्र की एनडीए सरकार देश को सांप्रदायिक आधार पर बांटने और ध्रुवीकरण की राजनीति के तहत हिंदू आतंकवाद का मुद्दा उठा रही है. बीजेपी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से इस मुद्दे पर अपनी पार्टी का रुख साफ करने को कहा है.

लोगों को बांट रही है एनडीए सरकार

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को लोकसभा में कांग्रेस पर ‘हिंदू आतंकवाद’ शब्द को गढ़ने और आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई की धार को कुंद करने का आरोप लगाया था. कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने शनिवार को कहा कि तत्कालीन यूपीए सरकार के गृहमंत्री के बयान को संदर्भ से काटकर पेश किया जा रहा है. एनडीए सरकार जान बूझकर ऐसा कर रही है. यह बीजेपी की देश के लोगों को बांटने की एक सोची समझी रणनीति है.

उन्होंने कहा कि पार्टी दो समुदायों के बीच विवाद खड़ा करना चाह रही है. आजाद ने कहा कि बीजेपी के ऐसा करने का मकसद आतंकवाद से निपटने में अपनी नाकामी को छिपाना, संसदीय मंच का दुरुपयोग करना और अपने राजनैतिक विरोधियों, खासकर कांग्रेस को बदनाम करना है. आजाद ने कहा कि कांग्रेस हमेशा से आतंकवाद के खिलाफ रही है. पार्टी ने तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी, तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी को आंतकवाद के हाथों मरते देखा है. 

बीजेपी के सत्ता में आने से देश में ध्रुवीकरण बढ़ा

आजाद कहा कि जब से बीजेपी सत्ता में आई है, देश में ध्रुवीकरण बढ़ा है. यहां तक कि जम्मू एवं कश्मीर में भी ऐसा हुआ है. कश्मीर में आतंकवाद की समस्या हो सकती है लेकिन वहां के समाज का कभी भी ध्रुवीकरण नहीं हुआ था. लेकिन, बीजेपी जब से जम्मू-कश्मीर की सत्ता का हिस्सा बनी है, तभी से इस राज्य में भी बड़े पैमाने पर ध्रुवीकरण बढ़ गया है.

हिंदू आतंकवाद पर जवाब दें सोनिया गांधी: रविशंकर प्रसाद

आजाद के बयान पर बीजेपी ने तुरंत और तगड़ा पलटवार किया है. केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि पार्टी सोनिया गांधी से जानना चाहती है कि क्या वह राहुल गांधी और अन्य कांग्रेस नेताओं के हिंदू आतंकवाद के तमाम आरोपों से सहमत हैं. प्रसाद ने कहा कि राहुल गांधी ने एक बार अमेरिकी राजदूत से कहा था कि हिंदू आतंकवाद के मुकाबले लश्कर-ए-तैयबा कम खतरनाक है. 

लश्कर के सक्रिय होने और भारत को आसन्न खतरे के बारे में अमेरिकी राजदूत के सवाल के जवाब में राहुल गांधी ने कहा था कि भारतीय मुसलमानों के कुछ हिस्सों में लश्कर के लिए समर्थन देखा गया है. लेकिन राहुल गांधी ने कहा था कि बड़ा खतरा कट्टर हिंदू संगठनों की तरफ से है जो मुस्लिम समुदाय के साथ तनाव और राजनैतिक विवाद पैदा कर रहे हैं.

बीजेपी कभी भी मुस्लिम आतंकवाद की बात नहीं करती

रविशंकर प्रसाद ने ये बातें ब्रिटिश अखबार द गार्डियन के हवाले से कहीं. प्रसाद ने यह भी साफ कर दिया कि उनकी पार्टी ने कभी भी मुस्लिम आतंकवाद की बात नहीं की. पार्टी ने हमेशा जेहादी आतंकवाद कहा. प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस सरकार के तत्कालीन गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने कहा था कि भारत हिंदू आतंकवाद को लेकर चिंतित है. फिर चिदंबरम ने भी भगवा आतंकवाद की बात कही. बीजेपी का रुख इस मामले में साफ है और वह यह कि आतंकवाद का कोई धर्म नहीं होता. बीजेपी कभी भी मुस्लिम आतंकवाद की बात नहीं करती. पार्टी ने हमेशा जेहादी आतंकवाद का ही मुद्दा उठाया है.