पटना: राष्ट्रपति चुनाव के बाद बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव पर सीएम नीतीश कुमार बड़ा फैसला ले सकते हैं. तेजस्वी के इस्तीफे से मना करने के बाद गेंद नीतीश के पाले में है. इस बीच, पटना में सीएम नीतीश कुमार के आवास पर JDU विधायकों की बैठक हुई जिसमें महागठबंधन को लेकर चर्चा भी हुई.
 
JDU प्रवक्ता अजय आलोक ने कहा कि हमारा स्टैंड साफ है कि भ्रष्टाचार पर समझौता नहीं होगा. RJD का पक्ष हम जान गए हैं अब हमारे फैसले की बारी है. तेजस्वी मामले पर अजय आलोक ने शायराना अंदाज में कहा कि वक्त आने पर बता देंगे. अभी से हम क्या बताएं क्या हमारे दिल में हैं.
 
 
हालांकि लालू यादव ने साफ कह दिया है कि तेजस्वी यादव इस्तीफा नहीं देंगे. उन्होंने कहा कि एफआईआर होने से कोई इस्तीफा नहीं हो जाता. उन्होंने कहा कि बिहार में महागठबंधन अटूट है और आरजेडी कभी आगे बढ़कर महागठबंधन नहीं तोड़गा. उन्होंने कहा कि वो और उनके बच्चे कई बार आरोप पर सफाई दे चुके हैं और अब दोबारा कोई सफाई नहीं देंगे.
 
 
इस वक्त सीएम नीतीश कुमार के पास दो ही ऑप्शन हैं. या तो वे लालू यादव की शर्त मान लें या फिर गठबंधन तोड़ दें. आज शाम को पटना में आरजेडी और कांग्रेस ने विधायक दल की संयुक्त बैठक बुलाई चल रही है. बताया जा रहा है कि ये बैठक मुख्य रूप से राष्ट्रपति चुनाव को लेकर है. मगर इस बैठक में तेजस्वी यादव प्रकरण पर भी बातचीत हो सकती है.