नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने रविवार को राष्ट्रपति चुनाव से एक दिन पहले केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला है. सोनिया ने कहा कि भले ही हमारे पास चुनाव के लिए संख्या बल कम है, लेकिन हमको पूरी ताकत के साथ चुनाव लड़ना होगा. यह चुनाव विघटनकारी, संकीर्ण सोच और सांप्रदायिक विचारधारा के खिलाफ लड़ाई है.
 
विपक्ष की बैठक में सोनिया ने कहा कि हम आजाद देश में रहते हैं और हम भारत को उनका गुलाम नहीं बनने दे सकते, जो विघटनकारी, संकीर्ण सोच और सांप्रदायिक विचारधारा दूसरों पर थोपना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि जब देश का कानून और संविधान दोनो खतरे में हैं, तब जरुरत है कि ऐसे तत्वों के खिलाफ हर हाल में लड़ना चाहिए. 
 
 
सोनिया ने राष्ट्रपति चुनाव को विचारधारा की लड़ाई बताते हुए कहा कि यह चुनाव हमारे आजाद देश के मूल्यों की लड़ाई का प्रतिनिधित्व करता है. अब समय आ गया है कि इस चुनाव में उनको वोट दिया जाए, जिससे भारत को बचाया जा सके और जिसके हमारे महात्मा गांधी और स्वतंत्रता सेनानियों की पीढ़ियों ने लड़ा. 
 
 
उन्होंने कहा कि मीरा कुमार और गोपाल कृष्ण गांधी का समर्थन करने के लिए सभी दल के प्रतिनिधियों की मौजूदगी इस बात की पुष्टि करती है कि एक सहनशील, समावेशी और बहुलवादी भारत की लड़ाई अब सही मायने में छेड़ी जा चुकी है. बता दें कि सोमवार को राष्ट्रपति का चुनाव होने वाला है वहीं उप-राष्ट्रपति पद के लिए पांच अगस्त को मतदान होगा.