नई दिल्ली. 1993 में हुए मुंबई ब्लास्ट के दोषी याकूब मेमन की फांसी को रोकने के लिए 40 नेताओं ने राष्ट्रपति को चिट्ठी लिखी है. इसमें कई सांसदों के हस्ताक्षर हैं जिनमें वृंदा करात, सीताराम येचुरी, शत्रुध्न सिन्हा, महेश भट्ट, नसीरुद्दीन शाह और प्रकाश करात का नाम शामिल है.

चिट्ठी में याकूब मेमन की फांसी को रोकने की मांग की गई है जिन्हें 30 जुलाई को फांसी दिया जाना है. इस पर माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि याकूब मेमन ने भारतीय एजेंसियों की मदद करने का काम किया है. उसे फांसी की सजा नहीं होनी चाहिए. 

आपको बता दें कि 21 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट ने याकूब की क्युरेटिव पीटीशन को ख़ारिज कर दिया है. इससे पहले 9 अप्रैल को याकूब की पुनर्विचार याचिका खारिज हुई थी तब सुप्रीम कोर्ट ने उनकी फांसी बरकरार रखी थी. मेमन ने फांसी की सज़ा को उम्र कैद में बदलने की मांग की थी. याकूब के वकीलों की दलील थी कि वो सिर्फ धमाकों की साजिश में शामिल था, न कि धमाकों को अंजाम देने में.