मुंबई : ओवल में चैंपियन्स ट्रॉफी में फाइनल मुकाबले में पाकिस्तान से भारत की हार पर शिवसेना ने अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की है. शिवसेना के मुखपत्र सामना में इस मामले में एक संपादकीय प्रकाशित की गई है. जिसमें शिवसेना ने भारत की हार के बाद टीवी फोड़ने वाले दर्शकों पर निशाना साधा है.
 
शिवसेना ने कहा है कि अगर पाकिस्तान के साथ क्रिकेट में हारना पाप होगा तो उनके साथ होने वाले मुकाबले को देखना महापाप है, संभवत गोवंश हत्या से भी बड़ा पाप है. सामना में ‘टीवी फोड़ने की देशभक्ति’ करके एक संपादकीय प्रकाशित की गई है जिसमें कहा गया है, ‘जिन्होंने टीवी फोड़ा उन्हें पाकिस्तान के साथ होने वाला मुकाबला देखने की बजाय टीवी बंद कर ब्लैक आउट करना चाहिए था, अगर ऐसा करते तो वह असली देशभक्त कहलाते.’
 
 
शिवसेना ने कहा, ‘सवा सौ करोड़ देशवासियों ने ऐसा बहिष्कार किया होता तो कश्मीर में शहीद हुए जवामनों और निरपराध हिंदुओं के लिए वह सच्ची श्रद्धांजलि होती. हालांकि क्रिकेट में धर्म और राजनीति नहीं लाई जानी चाहिए, ऐसी सलाह देने वालों को टीवी फोड़ने वालों की भावनाओं को समझना होगा.’
 
संपादकीय में लिखा है, ‘पाकिस्तान ने हमें क्रिकेट मैच में हराया है, इस बात का संताप जिन्हें हुआ वे कभी तो कश्मीर में शहीद होने वाले जवानों के सम्मान में भी संतापित होकर सड़क पर उतरें! देशभक्ति का मतलब सिर्फ नोटबंदी का समर्थन नहीं और टीवी फोड़ना नहीं!’
 
 
बता दें कि रविवार को चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल मुकाबले में टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करने आई पाकिस्तान टीम ने 50 ओवर में 4 विकेट खोकर 338 रन बनाए थे. जिसके जवाब में टीम इंडिया पूरे ओवर भी बल्लेबाजी नहीं कर पाई और 30.3 ओवर में 158 रनों पर ही सिमट गई. इसके साथ ही भारत को 180 रनों से करारी हार का सामना करना पड़ा है.