पटना: यूपी में SP और BSP की करारी हार के बाद एक बार फिर महागठबंधन बनाने और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पीएम कैंडिडेट घोषित करने की मांग तेज हो गई है. जेडीयू प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा कि जब तक देश के तमाम राजनीतिक दल बीजेपी को हराने के लिए एक मंच पर नहीं आते तब तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को हराना संभव नहीं है.

 
ये भी पढ़ें:
 
केंद्रीय मंत्री रामबिलास पासवान ने पीएम मोदी को रोकने के लिए महागठबंधन बनाने की खबरों पर तंज कसा और कहा कि सौ लंगड़े मिलकर पहलवान नहीं बन सकते. बता दें कि उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में बीजेपी की शानदार जीत ने कांग्रेस को 2019 की तैयारी करने पर मजबूर कर दिया है.
 
ये भी पढ़ें:
 
नीतीश भी कई बार दे चुके हैं इशारे
हालांकि मोदी के विकल्प के तौर पर नीतीश कुमार को पहली बार जेडीयू ने पेश किया है. इससे पहले भी जेडीयू नेता नीतीश को पीएम उम्मीदवार बताते रहे हैं. नीतीश खुद भी इशारों-इशारों में कई बार संकेत दे चुके हैं, हम मजबूत विपक्ष के अगुआ बनना चाहते हैं. रिपोर्ट्स के अनुसार कांग्रेस साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों में बीजेपी से मुकाबला करने के लिए महागठबंधन कर सकती है. बिहार की तर्ज पर अब उत्तर प्रदेश में भी महागठबंधन किया जा सकता है. 
 
ये भी पढ़ें:
 
BJP को मिला प्रचंड बहुमत
बता दें कि उत्तर प्रदेश की 403 सीटों में से बीजेपी को 312, सपा को 47, कांग्रेस को 7, राष्ट्रीय लोक दल को 1, बसपा 19, अपना दल को 9, एनआईएसएचएडी को 1, सुखदेव भारतीय समाज पार्टी को 4 और अन्य के खाते में 3 सीटें गई हैं. वहीं उत्तराखंड की कुल 70 सीटों में से 57 बीजेपी के खाते में गई हैं. इसके बाद कांग्रेस को कुल 11 सीटें मिली हैं. अन्य दलों के बाद महज दो सीटें लगी हैं.