चंडीगढ़ : विधानसभा चुनाव से ठीक पहले बीजेपी छोड़ कांग्रेस में शामिल होने वाले नेता नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब सरकार में जगह तो मिली है, लेकिन उन्हें राज्य में डिप्टी सीएम न बनाकर स्थानीय प्रशासन, पर्यटन एवं सांस्कृतिक मामले, आर्काइव्स एवं म्यूजियम जैसे विभागों की जिम्मेदारी सौंप दी गई है.
 
पंजाब के नए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सिद्धू को इस विभाग की जिम्मेदारी सौंपी है. पहले यह खबर सामने आ रही थी कि कांग्रेस सिद्धू को पंजाब का डिप्टी सीएम बनाएगी, लेकिन गुरुवार को शपथ ग्रहण समारोह के बाद सिद्धू को आर्काइव्स और म्यूजियम जैसे विभागों की जिम्मेदारी दे दी गई.
 
गुरुवार को कांग्रेस ने पंजाब में सरकार बना ली है. कल चंडीगढ़ में गवर्नर हाउस में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने राज्य के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली है, उनके साथ ही 9 मंत्रियों ने भी शपथ ग्रहण में हिस्सा लिया था. शपथ ग्रहण में कैप्टन के बाद तीसरे नंबर पर सिद्धू ने शपथ ग्रहण की थी, जिसके बाद कहा जा रहा था कि सिद्धू को डिप्टी सीएम बनाया जा सकता है, लेकिन ऐसा नहीं हुआ.
 
 
रिपोर्ट्स है कि कैप्टन समेत पंजाब कांग्रेस के बहुत से वरिष्ठ नेता नहीं चाहते थे कि सिद्धू को पंजाब सरकार में दूसरे नंबर का पद दे दिया जाए, शायद इसी दबाव की वजह से सिद्धू को पंजाब के डिप्टी सीएम की गद्दी मिलते-मिलते रह गई.
 
बता दें कि पंजाब, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर में हुए विधानसभा चुनावों के बाद कांग्रेस तीन राज्यों में बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी, लेकिन गोवा और मणिपुर में बीजेपी ने विधायकों का समर्थन लेकर सरकार बना ली. कांग्रेस केवल पंजाब में ही सरकार बना सकी है.