नई दिल्ली. केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने व्यापम घोटाले पर संकेतों में शिवराज सरकार के लिए प्रतिकूल बयान दिया है. पत्रकारों  से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि एसटीएफ को जांच सौंपे जाने में खिलवाड़ का अंदेशा जताया और मध्य प्रदेश में उनके लोगों को भी खतरा बताया. उमा भारती ने स्पष्ट कहा है कि वह खुद शिवराज से मिल कर सीबीआई जांच करवाने की मांग कर चुकी हैं. इस मामले में उनके करीबियों पर आरोप लगा है, तो उनकी सीबीआई जांच होनी ही चाहिए.

मोदी सरकार में जल संसाधन और गंगा सफाई मंत्री उमा ने कहा, ‘मध्यप्रदेश में मेरे लोगों को भी खतरा है. उन्होंने शिवराज सिंह से निष्पक्ष जांच की मांग की. उन्होंने कहा कि मैंने पहले ही सीबीआई जांच के लिए कहा था. उमा ने एक तरफ  कहा कि वह शिवराज सिंह के साथ हैं और दूसरी तरफ शिवराज की जांच की मांग भी संकेतों में कर दी.

इससे पहले ‘व्यापम’ से जुड़े लोगों की मौत का हैरान करने वाला सिलसिला सोमवार को भी कायम रहा. पत्रकार अक्षय सिंह के बाद ‘व्यापम’ के जरिये सब-इंस्पेक्टर चुनी गईं अनामिका कुशवाहा के सुसाइड की खबर ने मुद्दे को और गर्मा दिया है. कांग्रेस ने शिवराज सरकार पर हमले तेज करते हुए सोमवार को 10 तीखे सवाल पूछे. उधर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि कोर्ट कहेगा तो सरकार व्यापम केस की सीबीआई जांच के लिए तैयार है.