नई दिल्ली. अक्सर विवादों में रहने वाले सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने अब भारतीय संसद के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल की है. इसी साल मार्च महीने में काटजू ने महात्मा गांधी और नेताजी सुभाष चंद बोस को विदेशी एजेंट कहा था. इसके बाद काटजू के खिलाफ राज्यसभा में निंदा प्रस्ताव पारित किया गया था. 

अब काटजू की तरफ से यूपीए सरकार में सॉलिसिटर जनरल रह चुके गोपाल सुब्रमण्यम ने निंदा प्रस्ताव पारित करने पर राज्यसभा के उप सभापति और लोकसभा अध्यक्ष के खिलाफ अर्जी दाखिल की है.  

My Petition against the Indian ParliamentBoth Houses of Parliament had condemned me for my statements calling Gandhi a…

Posted by Markandey Katju on Monday, June 29, 2015

इससे पहले भी निंदा प्रस्ताव पारित होने के बाद काटजू ने कहा था, ‘ओह आश्चर्यजनक खबर. राज्यसभा (भारतीय संसद का उच्च सदन) ने मेरी निंदा में एक प्रस्ताव पारित किया है. लेकिन निश्चित तौर पर यह पर्याप्त नहीं है. मुझे उस फर्जी, जिसे राष्ट्रपिता कहा जाता है, और जापानी फासिस्टों के एजेंट के बारे में जो मैंने कहा उसके लिए भी अवश्य दंडित किया जाना चाहिए. महज निंदा दंड नहीं है.’