नई दिल्ली. पाकिस्तानी उच्चायोग की तरफ से अलगाववादी नेता मसरत आलम को बुलावा दिए जाने पर केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कोई जवाब नहीं दिया. इस समारोह में विदेश राज्यसमंत्री वीके सिंह भी पहुंचे.

पाकिस्तान दिवस के कार्यक्रम से लौट कर विदेश राज्यमंत्री जनरल वीके सिंह ने ट्वीट कर अपनी भड़ास निकली है. पांच ट्वीट में प्रथम में पूर्व सेना प्रमुख ने कहा कि ‘नैतिक भावना, सिद्धांतों का अपमान करने के लिए. ’ इसके ठीक बाद दूसरे ट्वीट में कहा गया, ‘खीझने के लिए या नफरत से भरने के लिए.’ तीसरे ट्वीट में कहा गया, ‘‘एक काम या सेवा आवंटित किया गया.’ जबकि चौथे में कहा गया, ‘ एक ताकत जो एक व्यक्ति को नौतिक या कानूनी रूप से उसके दायित्वों से बांधती है. वहीं, आखिरी ट्वीट में कहा गया, ‘‘एक काम या कार्य जो एक व्यक्ति नैतिक या कानूनी कारणों से करने को बाध्य है.’’