नई दिल्ली. पूर्व इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) कमिश्नर ललित मोदी की मदद करने के आरोप पर घिरी विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के पक्ष में समाजवादी पार्टी उतर आई है. सपा के राष्ट्रीय महासचिव रामगोपाल यादव ने कहा कि मानवता के आधार पर ललित मोदी की मदद करने में कोई बुराई नहीं है. लोगों को तिल का ताड़ बनाने की आदत है. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कुछ गलत नहीं किया.

इस मामले को ज्यादा तूल नहीं देना चाहिए: अमित शाह

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने सुषमा स्वराज का बचाव करते हुए कहा कि उन्होंने जो भी किया, मानवीय आधार पर किया, इसके लिए हो-हल्ला मचाने की कोई जरूरत नहीं है. अमित शाह ने कहा कि एक भारतीय ने सुषमा जी से अपनी पत्नी के कैंसर के इलाज के लिए मदद मांगी थी, इसमें इतना हंगामा करने जैसा कुछ नहीं है. उन्होंने कहा, ‘इस मामले को ज्यादा तूल देने की जरूरत नहीं है. किसी भारतीय ने विदेश में मदद मांगी तो उसकी मदद के लिए लंदन में सांसद से बात की. यहां भोपाल त्रासदी के बाद जैसे हालात नहीं थे- जब एंडरसन या क्वात्रोची को देश से भगा दिया गया था.’

गृह मंत्री राजनाथ ने लिया सुषमा का पक्ष

इस बीच गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी कैबिनेट में अपनी साथी सुषमा का खुलकर समर्थन किया है.  उन्होंने कहा, ‘मानवीय संवेदना रखने वालों को ऐसा करना चाहिए. ललित मोदी की पत्नी कैंसर से पीड़ित थीं. सुषमा ने जो किया ठीक किया. उन्होंने किसी से कोई सिफारिश नहीं की, उन्होंने नियम के तहत परमिशन की बात की थी.’

क्या है पूरा विवाद

सुषमा स्वराज पर आईपीएल के पूर्व चेयरमैन ललित मोदी की मदद का आरोप लगा है. ऐसी खबरें हैं कि सुषमा ने मोदी को ब्रिटेन में ट्रैवल वीज़ा दिलाने में मदद की थी. सुषमा पर आरोप है कि उन्होंने 2013 में लोकसभा में विपक्ष के नेता पद पर रहते हुए अपने भतीजे का ब्रिटेन में दाखिला करवाने के लिए ललित मोदी की मदद ली थी. इसी काम के बदले सुषमा पर ललित मोदी की मदद करने के आरोप लग रहे हैं. पूर्व आईपीएल कमिश्नर ललित मोदी के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय जांच कर रहा है. उन पर लुक आउट नोटिस भी जारी है. 

सुषमा ने किया खुद का बचाव

सुषमा ने ललित मोदी से संपर्क की बात तो मानी है और कहा कि विदेश मंत्री बनने के बाद वह जुलाई 2014 में ललित मोदी के संपर्क में थीं. सुषमा ने ट्वीट किया है, ‘जुलाई 2014 में ललित मोदी ने फोन किया और कहा कि उनकी पत्नी कैंसर पर पीड़ित है और 4 अगस्त को पुतर्गाल में सर्जरी होनी है. ललित मोदी ने मुझसे कहा कि उन्हें कंसेंट पेपर पर दस्तखत करने के लिए हाजिर रहना है.’
 
सुषमा ने आगे लिखा है, ‘ललित ने मुझे बताया कि उन्होंने लंदन में ट्रैवल डॉक्युमेंट्स के लिए अप्लाई किया है और ब्रिटेन सरकार दस्तावेज देने के लिए तैयार है. मगर यूपीए सरकार के एक सर्कुलर की वजह से वे ऐसा नहीं कर सकते, क्योंकि इससे भारत-ब्रिटेन संबंधों पर असर पड़ेगा.’ सुषमा ने कहा कि मानवीय आधार पर उन्होंने ललित मोदी की मदद की है.