नई दिल्ली. मोदी सरकार में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज पर इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के पूर्व कमिश्नर ललित मोदी की मदद का आरोप लगा है. इस मसले पर केंद्र सरकार, बीजेपी और आरएसएस सुषमा के बचाव में उतर आया है.  बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने सुषमा स्वराज का बचाव करते हुए कहा कि उन्होंने जो भी किया, मानवीय आधार पर किया, इसके लिए हो-हल्ला मचाने की कोई जरूरत नहीं है. 

अमित शाह ने कहा कि एक भारतीय ने सुषमा जी से अपनी पत्नी के कैंसर के इलाज के लिए मदद मांगी थी, इसमें इतना हंगामा करने जैसा कुछ नहीं है. उन्होंने कहा, ‘इस मामले को ज्यादा तूल देने की जरूरत नहीं है. किसी भारतीय ने विदेश में मदद मांगी तो उसकी मदद के लिए लंदन में सांसद से बात की. यहां भोपाल त्रासदी के बाद जैसे हालात नहीं थे- जब एंडरसन या क्वात्रोची को देश से भगा दिया गया था.’

गृह मंत्री राजनाथ ने लिया सुषमा का पक्ष

इस बीच गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी कैबिनेट में अपनी साथी सुषमा का खुलकर समर्थन किया है.  उन्होंने कहा, ‘मानवीय संवेदना रखने वालों को ऐसा करना चाहिए. ललित मोदी की पत्नी कैंसर से पीड़ित थीं. सुषमा ने जो किया ठीक किया. उन्होंने किसी से कोई सिफारिश नहीं की, उन्होंने नियम के तहत परमिशन की बात की थी.’

क्या है पूरा विवाद

सुषमा स्वराज पर आईपीएल के पूर्व चेयरमैन ललित मोदी की मदद का आरोप लगा है. ऐसी खबरें हैं कि सुषमा ने मोदी को ब्रिटेन में ट्रैवल वीज़ा दिलाने में मदद की थी. सुषमा पर आरोप है कि उन्होंने 2013 में लोकसभा में विपक्ष के नेता पद पर रहते हुए अपने भतीजे का ब्रिटेन में दाखिला करवाने के लिए ललित मोदी की मदद ली थी. इसी काम के बदले सुषमा पर ललित मोदी की मदद करने के आरोप लग रहे हैं. पूर्व आईपीएल कमिश्नर ललित मोदी के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय जांच कर रहा है. उन पर लुक आउट नोटिस भी जारी है.