नई दिल्ली. म्यांमार सीमा में उग्रवादी ठिकानों पर सेना के सर्जिकल ऑपरेशन पर सूचना प्रसारण राज्यमंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने कहा कि अगर उग्रवादी हम पर इस तरह के हमले करेंगे तो अब हम ऐसे ही कदम उठाएंगे. इंडिया न्यूज़ के साथ खास बातचीत में राठौर ने कहा कि भारत पर इस तरह हमले करने वाले अब सेना से डरेंगे.

राठौर ने इस ऑपरेशन का श्रेय पीएम नरेंद्र मोदी को देते हुए कहा कि इस तरह के फैसले राजनीतिक और रणनीतिक भी होते हैं इसलिए श्रीर्ष स्तर से मिलने वाली मदद बहुत काम आती है. राज्यवर्धन ने इसे भारत की डिप्लोमेटिक जीत बताया और कहा कि इस तरह का संदेश जरूरी था. भारत के इस कदम से देश के दुश्मनों तक एक मैसेज पहुंच गया है.

राठौर ने कहा कि पहले उग्रवादी हमले करके दूसरे देशों में छुप जाते थे लेकिन सेना का यह एक्शन ऐतिहासिक था. खुफिया सूचना मिली थी कि म्यांमार के अंदर दो कैंप हैं उग्रवादियों के. प्रधानमंत्री मोदी ने इनका पीछा करके इन पर एक्शन लेने का आदेश दिया.

राठौर ने कहा कि अब भारत पर हमला करने वाले कहीं भी रहें, भारतीय सुरक्षा बदल उनके खिलाफ उनकी जगह पर जाकर एक्शन ले सकते हैं. राठौर ने पड़ोसी देशों से कहा कि अगर उनकी जमीन से भारत पर हमले होते हैं तो उनको वो देश खुद खत्म करें क्योंकि भारत पड़ोसी देशों से बेहतर संबंध रखना चाहता है. उन्होंने कहा कि अगर दूसरे देश की धरती से भारत पर हमला होता है तो उनके खिलाफ कब, कहां और कैसे कार्रवाई होगी, ये हम तय करेंगे.