लखनऊ.  समाजवादी पार्टी में अंदरूनी कलह रुकने का नाम ही नहीं ले रही है. अब सपा के युवा संगठन ने 5 नवम्बर को होने वाली रजत जयंति समारोह में शामिल ना होने का फैसला किया है. एक बैठक में इस फैसले के साथ कई अन्य प्रस्ताव पारित किये गए.
 
बीते दिनो अनुशासनहीनता के आरोप में युवा नेताओं को पार्टी से निकाल दिया गया था. इसी के‌ विरोध में अखिलेश की युवा टीम ने रजत जयंती कार्यक्रम में शामिल न होने का फैसला लिया है.  
 
इस मौके पर अखिलेश यादव में निष्ठा का भी प्रस्ताव पारित हुआ और बताया गया कि अखिलेश यादव को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाने से सपा युवा नेता नाराज हैं. यह फैसला मंगलवार को सपा के युवा संगठन और पार्टी के दूसरे प्रकोष्ठ के नेताओं ने  बैठक में लिया.