तिरुअनंतपुरम. केरल के उद्योग मंत्री ईपी जयराजन ने अपने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया हैं. उन पर आरोप है कि उन्होंने अपने करीबी रिश्तेदारों को नियमो के खिलाफ जाकर सरकारी उपक्रमों में नौकरी दिलवाई है.
 
इस मामले में केरल का विजिलेंस और एंटी-करप्शन विभाग उनके खिलाफ जांच कर रहा हैं. केरल में चार महीने पहले ही सीपीएम के नेतृत्व में नई सरकार बनी है. मुख्यमंत्री पी. विजयन के बाद ईपी जयराजन केरल के दूसरे नंबर के मंत्री कहे जाते थे.
 
इस मामले के सामने आने के बाद कांग्रेस, बीजेपी और अन्य विपक्षी दलों ने भी जयराजन के इस्तीफे की मांग की थी. जयराजन का कहना है कि उन्होंने पिछले चार महीनों में उद्योग क्षेत्र से जुड़े हुए माफियाओं पर नकेल कसी हैं.
 
जिसकी वजह से घबरा कर ये लोग मेरे खिलाफ झूठे आरोप लगा रहे हैं. पार्टी की छवि को कोई नुकसान ना पहुंचे इसलिए जांच पूरी होने तक मैंने अपने पद से इस्तीफा दें दिया हैं. पार्टी के सीनियर नेताओं का कहना है कि इस घटना से पार्टी की छवि को नुकसान पहुंचा हैं.