नई दिल्ली. पंजाब में 2017 में होने वाले विधानसभा चुनावों के चलते सियासी घमासान तेज हो गया है. सभी पार्टियां विरोधियों पर निशाना साधने और उन्हें नीचा दिखाने में लगी है. पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा है कि सत्ता में आने के बाद वह करोड़ों के अनाज घोटाले से एक-एक पैसा वापस लाएंगे. अमरिंद्र ने कहा कि  केस की जांच सीबीआई करेगी और भ्रष्ट बादल एंड कंपनी को बख्शा नहीं जाएगा, उनकी जगह सिर्फ जेल में होगी.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
कैप्टन अमरिंदर ने कहा कि उनकी पार्टी के सत्ता में आने के बाद इस महा घोटाले से पर्दा उठायेगी. राज्य में अनाज के स्टॉक की फिजिकल वेरीफिकेशन करवाई जाएगी. उन्होंने कहा सीबीआई इस मामले की जांच करेगी और कानूनी प्रक्रिया के तहत घोटाले के दोषियों को जेल भेजा जाएगा. हम बादलों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने से पीछे नहीं हटेंगे. 
 
इस दौरान कैप्टन अमरिंद्र ने आरोप लगाया कि 2007 से बादल पिता-पुत्र की सरकार पंजाब को लूट रही है. अब अनाज घोटाला भ्रष्टाचार के मामले में इनके सिर का ताज है. कैप्टन ने कहा कि 2002 में उन्होंने कार्यभार संभाला तो पंजाब के सिर केंद्र का 4500 करोड़ रुपये बकाया था, जो उनकी सरकार ने सफलतापूर्वक उतार दिया था. पर बादल सत्ता में आए तो राज्य कर्ज के जाल में फंसता ही गया.
 
अमरिंदर सिंह ने कहा कि कैग ने भी अपनी जांच में बादल सरकार पर लगाम लगाने के लिए पुख्ता सबूत जमा किए हैं. इस साल अप्रैल में विजिलेंस ब्यूरो को दिए शिकायत में कांग्रेस ने कहा था कि कैग और आरबीआई ने शुरुआती जांच में पाया कि 32,000 करोड़ रुपये के स्टॉक का गायब होना केन्द्रीय फंडों में अनियमितता और अनाज का अन्य उद्देश्यों में प्रयोग को दिखाता है.
 
बता दें कि अप्रैल में विजिलेंस को दी शिकायत में प्रदेश कांग्रेस ने कहा था कि कैग व आरबीआई की जांच में सामने आया है कि 32 हजार करोड़ के स्टॉक का गायब होना केंद्रीय फंडों में अनियमितता का मामला है.