नई दिल्ली. आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपना 66वां जन्मदिन मना रहे हैं. आज के इस खास दिन की शुरूआत उन्होंने अपनी मां हीरा बा का आशीर्वाद लेकर किया. इस खास मौके पर हम आपको एक ऐसी कहानी बताने जा रहे हैं जिसे आप शायद ही जानते होंगे.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बात उस समय की है जब 2001 में कांग्रेस के दिग्गज नेता माधव राव सिंधिया का निधन प्लेन क्रैश में हो गया था. उसी विमान में एक पत्रकार गोपाल की भी मौत हो गई थी, लेकिन सिंधिया के अंतिम संस्कार में जाने के कारण कोई भी नेता गोपाल के दाह-संस्कार में नहीं गया था. नरेंद्र मोदी से यह बात सहन नहीं हुई और वे पत्रकार के अंतिम संस्कार में शामिल हो गए.
 
ठीक उसी समय तात्कालिन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने गुजरात का सीएम पद संभालने के लिए नरेंद्र मोदी को फोन किया. उस समय मोदी शमशान में ही थे, लेकिन उन्होंने वाजपेयी से बात की और उनके प्रस्ताव को स्वीकार किया.
 
यही वह एक फोन कॉल था जिसने मोदी की जिन्दगी को बदल दिया और मोदी 2001 में पहली बार गुजरात के सीएम बने. उसके बाद 2014 में भारत के 14वें प्रधानमंत्री बने.
 
इस वीडियो में ये बातें आप खुद मोदी की जुबानी सुन सकते हैं.