नई दिल्ली. पंजाब विधानसभा में सोमवार से चल रहे कांग्रेसी विधायकों के धरने के बाद बुधवार को हालात और ​खराब हो गए. कांग्रेस विधायक तरलोचन संधू ने विधानसभा सत्र के दौरान राजस्व मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया पर जूता फेंक दिया. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
कांग्रेस के विधायक बादल सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाना चाहता थे. इसके लिए उन्होंने स्पीकर से चर्चा कराए जाने की मांग की थी लेकिन स्पीकार के ​इनकार के बाद कांग्रेस विधायक धरने पर बैठ गए. विधायकों ने दो दिन विधानसभा परिसर में ही रात बिताई. 
 
मंगलवार को मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने विधानसभा जाकर प्रदर्शन खत्म करने की मांग की थी लेकिन विधायकों ने इससे मना कर दिया. कांग्रेसी विधायकों ने सीएम बादल से कहा था कि पहले पंजाब के मुद्दों को हल करो, कांग्रेस विधायकों को सदन में बोलने का मौका दो तब धरना खत्म करेंगे।
 
कांग्रेस का दावा है कि सदन में उन्हें बहस का पूरा समय नहीं दिया गया और स्पीकर ने ध्वनि-मत से कांग्रेस के अविश्वास प्रस्ताव को खारिज कर दिया और विधानसभा की कार्यवाही स्थगित कर दी।