नई दिल्ली. एक तरफ जहां प्रधानमंत्री मोदी सांप्रदायिकता भरी जुबान से तौबा कर रहे है तो वहीं दूसरी तरफ बीजेपी के राज्यसभा सांसद विनय कटियार आग उगलती बातें करने से बाज़ नहीं आ रहे हैं. कटियार ने मोदी की बातों को नज़रंदाज़ करते हुए कहा है कि देश के आर्थिक विकास की तरह ही राम मंदिर मुद्दा भी महत्वपूर्ण है. कटियार के मुताबिक, राम मंदिर जल्दी ही नहीं बना तो राम भक्तों का गुस्सा एक ज्वालामुखी की तरह भड़क सकता है. कटियार ने स्पष्ट कहा कि सरकार बहुमत में है और यह राम मंदिर पर कानून बनाने का सबसे अच्छा मौका है.

राम भक्तों के भड़कने की धमकी 
विनय कटियार ने अंग्रेजी अखबार इन्डियन एक्सप्रेस से बातचीत में कहा, ‘इस मुद्दे को अभी भी इग्‍नोर किया गया, तो राम भक्तों का गुस्सा ज्वालामुखी बनकर फूट सकता है.’ सुप्रीम कोर्ट में इस मामले के लंबित होने के बारे में पूछे जाने पर भाजपा सांसद ने कहा कि बीजेपी को पूर्ण बहुमत मिला है. इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले के आधार पर लोकसभा में कानून पास करने का यह ‘अच्छा वक्त’ है. इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले में विवादित जगह को भगवान राम का जन्मस्थल बताया गया है.

कटियार ने कहा कि रामभक्‍तों को नई सरकार से काफी उम्मीदें हैं. उन्होंने कहा कि वाजपेयी जी ने बहुत कोशिश की, लेकिन बीजेपी का बहुमत नहीं था, इसलिए बहुत कुछ नहीं कर पाए. कटियार बीजेपी प्रमुख अमित शाह के उस हालिया बयान के परिप्रेक्ष्य में बोल रहे थे, जिसमें उन्होंने कहा था कि राम मंदिर जैसे कोर मुद्दों के हल के लिए पार्टी के पास अभी भी पर्याप्त बहुत बहुमत नहीं है.

सरकार कर रही है टालमटोल!
बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के मुताबिक, इसके लिए 370 सीटों की जरूरत है. गृह मंत्री राजनाथ ने भी कहा था कि सरकार इस मामले में कोई कानून लाने का तब तक नहीं सोच सकती, जब तक एनडीए को राज्यसभा में बहुमत नहीं मिल जाता. कटियार ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार किए बिना सरकार को बातचीत और कानून का सहारा लेकर मंदिर बनवाना चाहिए.

IANS से भी इनपुट