नई दिल्ली. दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल और उपराज्यपाल जंग के बीच रिश्तों की कड़वाहट जगजाहिर है. दोनों के बीच छोटे से छोटा मुद्दा तूल पकड़ लेता है. इस बार फिर से एलजी जंग ने केजरीवाल सरकार को ऐसा आदेश दिया है, जिससे दोनों के बीच फिर से जंग छिड़ सकती है. उपराज्यपाल ने केजरीवाल और उनके कैबिनेट को फरमान सुनाया है कि वो बीते डेढ़ साल में कितने विदेशी दौरों पर गए है इसका ब्यौरा 12 सितंबर तक दें.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
उपराज्यपाल नजीब जंग ने बीते डेढ़ साल के दौरान आम आदमी पार्टी की दिल्ली सरकार के मंत्रियों, निजी स्टाफ और अन्य अधिकारियों की ओर से किए गए विदेश दौरों का ब्यौरा मांगा है. उपराज्यपाल के दफ्तर ने ये ब्यौरा 12 सितंबर तक जमा करने का निर्देश दिया है. इस ब्यौरे में यात्रा का कारण, किस देश की यात्रा की गई, यात्रा की अवधि और किस श्रेणी के तहत यात्रा की गई इसका ब्यौरा देना होगा.
 
एलजी के इस फरमान को दिल्ली हाइकोर्ट के उस फैसले से जोड़कर देखा जा रहा है, जिसमें कोर्ट ने एलजी को दिल्ली का मुखिया बताकर उनकी मंज़ूरी लिए बिना सरकार के किसी फैसले को अवैध बताया था. ऐसे में हो सकता है कि एलजी विदेशी दौरों के बारे में लिए फैसलों की कानूनी प्रक्रिया और वैद्यता देखना चाहते हों.