पटना. बिहार में मुख्यमंत्री के सलाहकार के पद पर मौजूद प्रशांत किशोर (PK) ने बिहार बीजेपी के नेता सुशील कुमार मोदी पर मानहानि का मुकदमा ठोकने का मन बना लिया है. सूत्रों के अनुसार सुशील मोदी के द्वारा उन पर गबन का आरोप लगाये जाने के बाद प्रशांत ने ये फैसला किया है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बता दें कि मंगलवार को सुशील मोदी ने आरोप लगाया था कि बिहार सरकार की ओर से प्रशांत किशोर को लगभग नौ करोड़ रुपये की राशि का भुगतान किया गया है, ताकि वह बिहार के विकास के लिए नई विस्तृत योजना तैयार करें. 
 
सुशील कुमार मोदी ने आरोप लगाया कि राज्य के लिए विज़न दस्तावेज़ तैयार करने की खातिर 9.31 करोड़ रुपये ले लेने के बाद प्रशांत किशोर ने न वह डॉक्यूमेंट तैयार किया, न मुख्यमंत्री के सलाहकार के रूप में अपनी ज़िम्मेदारी का निर्वाह किया.  
 
वहीं प्रशांत किशोर के सहायकों का कहना है कि जिन नौ करोड़ रुपयों का ज़िक्र बीजेपी कर रही है, वे चुनाव से पहले चलाए गए ‘बढ़ चला बिहार’ अभियान पर खर्च हुए थे, जिसके तहत 40,000 ग्रामसभाएं आयोजित कर इस बात की जानकारी इकट्ठा की गई थी कि लोग सरकार से किन कामों पर ध्यान देने की उम्मीद रखते हैं.
 
नीतीश कुमार की इस बात के लिए भी बीजेपी ने आलोचना की थी कि उन्होंने इसे सरकारी कार्यक्रम की तरह चलाया, जबकि यह मतदान से पहले लोगों से जुड़ने के लिए करवाई गई कवायद थी.