आगरा. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघचालक मोहन भागवत ने कश्मीर मुद्दे पर बयान दिया है. भागवत ने कहा है कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के शासनकाल में कश्मीर मुद्दा सुलझने की कगार पर था. अगर वाजपेयी जी की सरकार एक दो साल और रह जाती तो कश्मीर मुद्दा हल हो जाता. लेकिन बाद की सरकारों ने वाजपेयी के इन प्रयासों को आगे नहीं बढ़ाया. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
भागवत का यह बयान ऐसे समय आया है, जब सुप्रीम कोर्ट ने भी कहा है कि इस मुद्दे का राजनीतिक हल ही संभव है. भागवत रविवार को आगरा में एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे, ‘कश्मीरी लोग पाकिस्तान के साथ नहीं रहना चाहते. हमें कश्मीर में लोगों के बीच राष्ट्रीयता की भावना विकसित करनी चाहिए.’ 
 
इस मौके पर उन्होंने वाजपेयी के प्रयासों को याद करते हुए कहा, ‘वाजपेयी कश्मीर मुद्दे का समाधान करने के करीब पहुंच गए थे, लेकिन बाद की सरकारों ने उनके प्रयासों को आगे नहीं बढ़ाया.’