मैंगलुरु. अक्सर अभिव्यक्ति की आजादी के मुद्दे पर घिरी रहने वाली भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह रविवार को इस मामले में खुल कर बोले. उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि उन लोगों को अलग-थलग कर दें, जो अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर देश के खिलाफ बोलते हैं. 

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर

अमित शाह ने यह बात मैंगलुरु में स्वतंत्रता सेनानियों के योगदान को याद करने के लिए अायोजित एक कार्यक्रम में कही. उन्होंने कहा, ‘आजकल कुछ लोगों और संस्थाओं के लिए अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की आड़ में राष्ट्रवाद पर सवाल उठाना फैशन बन गया है. अगर राष्ट्रवाद नहीं है, तो संविधान भी नहीं होगा जिससे इस अधिकार ने जन्म लिया है. मैं लोगों से अपील करता हूं की ऐसे लोगों और समूहों को अलग-थलग कर दें. राष्ट्रविरोधी विचारों को अभिव्यक्ति की आजादी का चोला नहीं पहनाया जा सकता.’

इसके अलावा आज अ​मित शाह ने पार्टी के राष्ट्रव्यापी ‘तिरंगा यात्रा’ अभियान के तहत एक बाइक रैली की भी शुरुआत की. इसमें करीब 400 बाइकर्स ने हिस्सा लिया.

इससे पहले शाह ने बीजेपी जिला कार्यालय का दौरा किया और कार्यालय के सामने एक पौधा लगाया. इस रैली में केंद्रीय मंत्री डी.वी. सदानंद गौड़ा और राज्य के बीजेपी अध्यक्ष बी.एस. येदुरप्पा भी मौजूद रहे.