नई दिल्ली. राजनीति की कटुता के बीच राजनेताओं के शिष्टाचार और प्रेम-भाव के कई किस्से इस देश में रहे हैं लेकिन जब आज पूरा देश पूर्व पीएम राजीव गांधी को उनके जन्मदिन पर याद कर रहा है तो राजीव को समझने के लिए उनकी हत्या के बाद पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी की कही गई ये बात आपकी आंखें गीलीं कर देंगी.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
राजीव की हत्या के बाद पत्रकार करन थापर ने वाजपेयी जी को फोन करके पूछा कि क्या वो राजीव जी के बारे में बात करना चाहेंगे तो करन को वाजपेयी जी ने घर पर बुलाया और करन से बोले कि कोई और बात करने से पहले वो कुछ बताना चाहते हैं.
 
वाजपेयी ने करन से कहा, “जब राजीव गांधी प्रधानमंत्री थे तो उन्हें कहीं से पता चला कि मुझे किडनी की बीमारी है जिसका इलाज विदेश में होगा. एक दिन राजीव ने मुझे दफ्तर बुलाया और कहा कि वो मुझे संयुक्त राष्ट्र जा रहे भारतीय प्रतिनिधिमंडल में शामिल कर रहे हैं और उम्मीद जताई कि मैं इस मौके का इस्तेमाल जरूरी इलाज के लिए करूंगा. मैं न्यूयॉर्क गया और ये एक कारण है कि मैं आज ज़िंदा हूं.”
 
वाजपेयी जी ने इसके आगे कहा, “तो तुम्हें समझ में आ गई मेरी दिक्कत, करन. मैं आज विपक्ष में हूं और लोग चाहते हैं कि मैं एक विरोधी की तरह बात करूं. लेकिन मैं ऐसा नहीं कर सकता. मैं सिर्फ वो बात करना चाहता हूं जो राजीव ने मेरे लिए किया. अगर तुम्हारे लिए ये ठीक है तो बात करूंगा अगर नहीं है तो मेरे पास कहने के लिए कुछ नहीं है.”