नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट ने राजनीतिक विरोधियों पर आपराधिक मानहानि मामले में तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता को फटकार लगाई है. कोर्ट ने कहा कि मानहानि कानून को एक राजनीतिक जवाबी हथियार के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा और आरएफ नरीमन की पीठ ने तमिलनाडु सरकार की आलोचना करने के लिए विधायकों या नौकरशाहों के खिलाफ दाखिल मानहानि मामलों को एक “डरावना प्रभाव” बताया है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा कि सरकार के भ्रष्टाचार और नाकामी को मानहानि नहीं कहा जा सकता है. यह फ्री स्पीच अधिकार को रोकने के बराबर है. कोर्ट ने दो हफ्ते में उन अपराधिक मानहानि मामलों की लिस्ट भी मांगी है जो राज्य सरकार ने दर्ज कराई है.