नई दिल्ली. पंजाब के संगरूर से आम आदमी पार्टी के सांसद भगवंत मान ने कहा है कि मैं अपनी बात लोकसभा अध्यक्ष के सामने साफ तौर रख दिया है. स्पीकर ने कहा कि जो मैंने किया है वह गलत है. इस बात पर मैंने मांफी मांग ली. इसलिए मेरी माफी को राजनीतिक रुप न दिया जाए.  
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बता दें कि भगवंत ने वीडियो पर अपना पक्ष रखते हुए लोकसभा अध्यक्ष को चिट्ठी लिखा है. उन्होंने कहा कि मेरे वीडियो बनाने पर समिति बनाई गई है, समिति जांच करेंगी कि इस वीडियो से संसद की सुरक्षा को खतरा पैदा तो नहीं हुआ और भारत के प्रधानमंत्री सुरक्षा को नजरअंदाज करते हुए संसद के हमलावरों को पठानकोठ एयरबेस में घुमाते हैं. इसकी जांच कौन सी कमिटी करेगी.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
आपको बता दें कि भगवंत मान के मामले में कमिटी को 3 अगस्त तक रिपोर्ट देनी है. सासंद महोदय ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी कमिटी की जांच के दायरे में लाने की अपील की है. भगवंत मान ने लोकसभा स्पीकर से पक्षपात न करने की बात कहते हुए लिखा है कि कमिटी प्रधानमंत्री को भी समन करे, क्योंकि अगर मैं दोषी हूं तो प्रधानमंत्री 100 गुना ज्यादा दोषी हैं.