ईटानगर. उत्तराखंड के बाद अरुणाचल प्रदेश में भी मोदी सरकार को बहुत जल्द झटका लग सकता है. अरुणाचल प्रदेश की राजनीतिक उठा-पठक के बीच फ्लोर टेस्ट के लिए समय मांगते हुए सीएम नबाम तुकी ने कैबिनेट बैठक बुलाई है. राज्यपाल ने नबाम तुकी से शनिवार को विधानसभा में बहुमत साबित करने को कहा है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
सूत्रों की माने तो कांग्रेस राज्यपाल के शनिवार को बहुमत साबित करने के फैसले से नाखुश है. कांग्रेस ने गवर्नर के इस फैसले को राजनीति से प्रेरित बताया है. कांग्रेस ने राज्यपाल की भूमिका को लेकर भी सवाल उठाए हैं. कांग्रेस का कहना है कि गवर्नर तभी सदन में बहुमत साबित करने के लिए कह सकता है जब कोई अविश्वास प्रस्ताव लाया गया हो. लेकिन अरुणाचल विधानसभा में ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं पेश किया गया है.
 
कांग्रेस की तरफ से यह भी कहा गया है कि सरकारिया कमीशन और अन्य कमीशनों ने भी यह कहा है कि किसी भी सरकार को बहुमत साबित करने के लिए 30 दिन का समय दिया जाना चाहिए.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
30 दिन का समय देने की करेंगे मांग
 
खबरों की माने तो आज होने वाली कैबिनेट बैठक के दौरान राज्यपाल को चिट्ठी लिख कर नियमों और कानूनों का हवाला देते हुए बहुमत साबित करने के लिए और समय मांगा जा सकता है. अगर राज्यपाल समय देने के लिए राजी नहीं होते तो मुख्यमंत्री नबाम तुकी तुरंत सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटा सकते हैं.