नई दिल्ली. मुस्लिम धर्मगुरु जाकिर नाईक को लेकर विवादों के बीच कांग्रेस के पूर्व केंद्रीय मंत्री दिग्विजय सिंह भी सवालों के घेरे में आ गए हैं. दरअसल दिग्विजय ने जाकिर नाईक की तारीफ करतें हुए 2012 में उन्हें शांति दूत कहा था.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
दिग्विजय और नाइक ने एक इवेंट में मंच साझा किया था जहां दिग्विजय ने नाइक को शांति का संदेश देने वाला बोला था. सवालों के घेरे में आने के बाद दिग्विजय ने ट्वीट कर कहा है कि जिस इवेंट में जाकिर के साथ शामिल हुए थे वो धार्मिक सद्भावना पर आयोजित हुई थी. कॉन्फ्रेंस में इस विषय पर भी चर्चा हुई थी कि इस्लाम आतंकवाद के खिलाफ है.
 
इतना ही नहीं दिग्विजय ने कहा कि अगर भारत सरकार और बांग्लादेश के पास नाइक के ISIS से संबंध होने के सबूत हैं तो जाकिर के खिलाफ एक्शन लिए जाने चाहिए. 
 
हमलें के 2 आतंकी नाइक के अनुयायी !
बांग्लादेश में आतंकी हमला करने वाले दो युवक नाईक  के अनुयायी बताए जा रहे हैं. रिपोर्ट्स के अनुसार यह आतंकी जाकिर के भाषण सुना करते थे. इसके अलावा बांग्लोंदश में शामिल सत्तागधारी अवामी लीग के राजनेता के बेटे रोहन इम्तियाज ने पिछले साल फेसबुक पर नाइक का एक संदेश पोस्ट किया था. जिस पर सफाई देते के लिए उन्होंने यह बात कही. 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
‘सभी मुस्लिमों को आतंकी होना चाहिए’
बता दें कि नाइक का विवादों से पुराना नाता रहा है. जाकिर ने मुंबई में एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा था कि सभी मुस्लिमों को आतंकी होना चाहिए. जिसके बाद जाकिर नाइक को ब्रिटेन में प्रवेश से प्रतिबंधित किया गया था और यही संदेश इम्तियाज ने भी पोस्ट किया था.