नई दिल्ली. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के प्रमुख सचिव राजेंद्र कुमार को केंद्रीय जांच ब्यूरो ने गिरफ्तार कर लिया है. रिपोर्ट्स के मुताबिक सीबीआई ने राजेंद्र को 50 करोड़ के भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार किया है जिसमें उन पर आरोप है कि उन्होंने सरकारी ठेके देने में गड़बड़ी की है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
इस बीच राजेंद्र के साथ साथ एंडेवर कंपनी के 4 डॉयरेक्टरों को तरुण शर्मा, दिनेश गुप्ता, संदीप कुमार, अशोक कुमार गिरफ्तार किया है. बता दें कि आशीष जोशी ने राजेंद्र कुमार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
रिपोर्ट्स के मुताबिक 5 आरोपियों की पेशी कल यानि मंगलवार को पटियाला हाउस कोर्ट में होगी. 
 

क्यों हुई है कार्रवाई
आशीष जोशी ने ही केजरीवाल के प्रिंसिपल सेक्रेट्री राजेंद्र कुमार की शिकायत की थी. इसके बाद ही दिल्ली सचिवालय स्थित सीएम कार्यालय पर सीबीआई द्वारा छापेमारी की गई. राजेंद्र पर आरोप है कि उन्होंने अपने पद का दुरूपयोग कर कुछ ख़ास कंपनियों को ही सारे सरकारी ठेके दे दिए.
 
बता दें कि जोशी को केजरीवाल ने अप्रैल में दिल्ली डॉयलॉग कमीशन के सदस्य और सचिव पद से हटा दिया था. इस कमीशन का उद्देश्य गुड गर्वनेंस की दुनियाभर के सबसे बेहतरीन चलनों, नियमों और कानूनों से सरकार को अवगत करवाना था. इसका काम नए और बड़े तौर-तरीकों से आप पार्टी को अवगत करवाना था. इसके बाद कमीशन के हेड खुद केजरीवाल बने और आशीष खेतान को इसका वाइस चेयरपर्सन बनाया गया.
 
जोशी ने आप सरकार पर कई आरोप लगाए. जोशी का कहना है कि सरकार अपने अंदर ही व्याप्त भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रही. उन्होंने जुलाई में शिकायत दी जिसमें आरोप लगाया गया कि राजेंद्र कुमार ने टेंडर के बिना ठेके हासिल करने के लिए अपने दोस्तों के साथ मिलकर एक कंपनी बनाई है जिससे सरकार को खासा नुकसान हो रहा है.