नई दिल्ली. बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने आरोप लगाया कि 2012 में हिन्दू आतंकवाद के नाम पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी देश में इमरजेंसी लगाने का मन बना चुकी थीं. स्वामी ने ‘खून-खराबा’ वाले बयान पर सफाई देते हुए कहा कि उनका मतलब बवाल से था ना कि सच में किसी खून-खराबे से.
 
बीजेपी नेता स्वामी ने शनिवार को कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने 2012 में देश में हिंदू आतंकवाद का हवाला देकर आपातकाल की घोषणा करने का फैसला कर लिया था.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
 
स्वामी ने एक प्रेस कांफ्रेंस में वित्त मंत्री अरुण जेटली के साथ तनाव की खबरों का खंडन किया. स्वामी ने कहा कि ऐसा कुछ भी नहीं है, इस तरह की बातें अटकलें हैं. उन्होंने कहा कि अगर मैं किसी को निशाना बनाना चाहता हूं तो सामने से खुलकर वार करता हूं. उन्होंने माहौल को हल्का करते हुए कहा कि वैसे जेटली जी कोट-पैंट में स्मार्ट लगते हैं. 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
BJP की नारजगी पर दी सफाई
उन्होंने उन मीडिया रिपोर्टों को भी खारिज कर दिया जिसमें कहा गया था कि बीजेपी उनके बयान से नाराज है. उन्होंने कहा कि वह अब भी पार्टी की बैठकों को संबोधित कर रहे हैं. ये सब मीडिया की बनाई हुई खबरें हैं.