नई दिल्ली. समाजवादी परिवार में कौमी एकता दल के विलय और उसके नेता मुख्तार अंसारी के आने पर घमासान मच गया है. मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने जहां एक ओर अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए इस विलय के मीडिएटर बलराम सिंह यादव को मंत्री पद से बर्खास्त कर दिया.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
वहीं अपनी मंत्री पद से बर्खास्तगी के बाद बलराम यादव ने इमोशनल अत्याचार किया है. बर्खास्तगी की खबर मिलने के बाद बलराम मीडिया के सामने रो पड़े. रोते हुए बलराम यादव ने कहा कि पार्टी उनकी मां है और मुलायम उनके पिता की तरह हैं. और ये रिश्ते कभी बदलने वाले नहीं हैं. 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
बता दें कि मंगलवार को मुख्तार अंसारी की पार्टी कौमी एकता दल का समाजवादी पार्टी में विलय हुआ था. जिसका सूत्रधार बलराम यादव को माना जा रहा था. विलय की खबरों से मुख्यमंत्री अखिलेश यादव काफी नाराज दिख रहे थे. विलय के कुछ ही घंटों में अखिलेश ने सख्त कदम उठाते हुए बलराम यादव की कैबिनेट से छुट्टी कर दी. बाद में अखिलेश ने कहा कि अगर समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता मेहनत करें तो चुनाव जीतने के लिए किसी दूसरी पार्टी की जरूरत नहीं है.