नई दिल्ली. दिल्ली में सरकार चला रही आम आदमी पार्टी अगले साल पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव में पंजाब और गोवा के बाद अब गुजरात के अखाड़े में भी उतरने का मन बना रही है. पार्टी अगले साल होने वाले यूपी या मणिपुर चुनाव को लेकर अभी असमंजस में है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
2014 में लोकसभा चुनाव के दौरान पंजाब की 4 सीटों के अलावा देश के किसी भी राज्य से कोई सीट नहीं जीतने के बाद पार्टी के संयोजक और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि पार्टी 2015 में सिर्फ दिल्ली का ही चुनाव लड़ेगी और किसी दूसरे राज्य में चुनाव नहीं लड़ेगी.
 
 
दिल्ली विधानसभा के लिए 2015 में हुआ चुनाव में आम आदमी पार्टी को 60 में 67 सीटें मिली थीं और कांग्रेस का पूरी तरह से सफाया हो गया. विपक्ष के नाम पर बीजेपी के मात्र 3 विधायक दिल्ली विधानसभा में पहुंच पाए थे. दिल्ली में मजबूती के साथ पांव जमा चुकी आम आदमी पार्टी की नज़र अब दूसरे राज्यों पर है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
खबरों के मुताबिक केजरीवाल 9 जुलाई को गुजरात के सोमनाथ मंदिर से राज्य में पार्टी के चुनाव प्रचार की शुरुआत कर सकते हैं. 10 जुलाई को गुजरात के अलग-अलग सामाजिक संगठनों से केजरीवाल की मुलाकात तय है. माना जा रहा है कि 9 जुलाई या 10 जुलाई को गुजरात दौरे के दौरान केजरीवाल गुजरात विधानसभा का चुनाव लड़ने का औपचारिक ऐलान कर सकते हैं.