पटना. केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी और बिहार के शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी के बीच Dear कहने पर चल रहे ट्वीट युद्ध के बीच बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने एक ट्वीट करके पूछा है कि असल में डियर कहना ही गलत है या एक दलित मंत्री ने कहा इसलिए गलत लगा.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बिहार के शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने सुबह 11.29 बजे ट्विटर पर स्मृति ईरानी को डियर स्मृति जी कहकर संबोधित करते हुए लिखा था कि अगर राजनीति और भाषण से फुर्सत मिले तो शिक्षा नीति पर भी ध्यान दीजिए. इस पर स्मृति ने 11.38 बजे अशोक चौधरी से पूछा कि वो महिलाओं को कब से डियर कहकर संबोधित करने लगे.
 
फिर दोनों के समर्थकों के बीच ट्वीटर पर बहस छिड़ गई. बाद में पटना में चौधरी ने पत्रकारों से कहा कि उन्हें ये समझ में नहीं आया कि ईरानी डियर कहने पर क्यों भड़क गईं फिर भी अगर स्मृति को बुरा लगा है तो वो माफी मांगते हैं. इसके बाद सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई बीजेपी नेताओं द्वारा महिलाओं को डियर संबोधित करने की तस्वीरें पोस्ट होने लगीं.
 
इसी बीच बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने ट्वीटर पर शाम 3.53 बजे स्मृति ईरानी को टैग करते हुए डियर मैडम स्मृति जी संबोधित किया और बिहार में स्मृति के होने पर स्वागत करते हुए सवाल पूछा कि क्या आप एसोसिएट प्रोफेसर और प्रोफेसर भर्ती में ओबीसी को आरक्षण देंगी.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
इसके बाद तेजस्वी ने शाम 4.33 बजे फिर एक ट्वीट किया और उसमें लिखा, “बस जिज्ञासा शांत करने के लिए पूछ रहा हूं कि क्या डियर शब्द अपमानजनक है या यह तब अपमानजनक हो जाता है जब एक दलित मंत्री ऐसा कहता है.”