नई दिल्ली. साल 2013 में हुए दिल्ली जल बोर्ड में 400 करोड़ रुपये के टैंकर घोटाले को लेकर दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित पर गाज गिर सकती है. दिल्ली की मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मामले में अपनी जांच रिपोर्ट एलजी नजीब जंग को सौंपते हुए सीबीआई और (एसीबी) से शीला समेत अन्य आरोपियों पर एफआईआर दर्ज करने की सिफारिश की है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
इसके अलावा मुख्यमंत्री ने सत्र के तीसरे दिन बीजेपी नेता विजेंद्र गुप्ता पर भी जमकर चुटकी ली. बता दें कि इस मामले को लेकर बीजेपी दिल्ली सरकार पर जमकर हमले कर रही थी और पूछ रही थी कि जब अगस्त में रिपोर्ट आ गई थी तो केजरीवाल सरकार इस मामले में पूर्व मुख्य मंत्री शीला दीक्षित पर कार्रवाई क्यों नहीं कर रही?
 
केजरीवाल का BJP पर चुटकी
मुख्यमंत्री केजरीवाल ने सदन के तीसरे दिन तंज कसते हुए कहा कि अगर दिल्ली सरकार दो महीने के अंदर शीला दीक्षित को जेल नहीं भेज पाई तो विजेंद्र गुप्ता अपनी मूछें मुंड़वा लेंगे. साथ ही खुद इस्तीफा देकर मोदी जी से भी इस्तीफा मांगेंगे. उन्होंने यह भी कहा कि वे सदन को आश्वस्त करते हैं कि उनकी सरकार ने विजेंद्र गुप्ता की सारी मांगें मान ली है.
 
उन्होंने आगे यह भी कहा कि नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता के बेंच पर चढ़ने से सरकार डर गई. इस बात का विजेंद्र जी को क्रेडिट जाता है कि आज जल आपूर्ति मंत्री कपिल मिश्रा ने टैंकर घोटाले की जांच रिपोर्ट सीबीआई और एसीबी को सौंप दी.
 
PM और LG को भेजी रिपोर्ट
इसके अलावा मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली जल बोर्ड के अध्यक्ष और दिल्ली सरकार में मंत्री कपिल मिश्रा ने शीला दीक्षित सरकार के कार्यकाल में हुए कथित घोटाले की जांच पूरी करके, सबूत इकट्ठे करके, रिपोर्ट बनाकर मामले में कार्रवाई के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उपराज्यपाल को एक पत्र लिखा है और मामले की रिपोर्ट भेजी है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
शीला दीक्षित पर आरोप
रिपोर्ट्स के अनुसार शीला दीक्षित पर आरोप है कि साल 2013 में जब शीला दीक्षित सीएम और दिल्ली जल बोर्ड की चेयरमैन थी तो ज्यादा रेट पर पानी के टैंकर खरीदे थे, जिससे दिल्ली सरकार को 400 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ था.