लखनऊ. बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती ने बीजेपी और कांग्रेस को आरक्षण के मसले पर घेरते हुए शनिवार को उसकी नीति और नीयत पर सवाल खड़े किए हैं. मायावती ने कहा है कि पहले कांग्रेस और अब बीजेपी सरकार की इस प्रकार की नीयत में जबर्दस्त खोट के कारण ही खासकर दलित वर्ग के लोगों को आरक्षण की संवैधानिक सुविधा का लाभ पूरी तरह नहीं मिल पा रहा है.
 
मायावती ने जाटों व पटेल/पाटीदार समाज को (ओबीसी) के तहत आरक्षण न दिए जाने के मामले में हरियाणा एवं गुजरात की बीजेपी सरकार की जातिवादी नीयत व नीति को पूरी तरह दोषी ठहराया है.
 
मायावती ने दबे शब्दों में जाट समुदाय को भड़काते हुए बीजेपी सरकार के बहकावे में न आने की सलाह दी है. मायावती ने हरियाणा की बीजेपी सरकार द्वारा जाट समुदाय को आरक्षण की सुविधा देने के मामले में धोखाबाजी करने का आरोप लगाया और कहा कि “मनोहर लाल खट्टर सरकार की इस मामले में नीयत और नीति सही नहीं है.
 
बीजेपी सरकार ने इसी नीति और नियत के चलते ही सम्बन्धित कानून को त्रुटिपूर्ण बनाया. यही कारण है कि कोर्ट को भी उसे लागू करने पर रोक लगाने के लिए अंतरिम स्थगन आदेश देना पड़ा है.”
 
उन्होंने कहा, “खासकर हरियाणा राज्य में जाट समुदाय को अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) में शामिल करके सीधे तौर पर उन्हें आरक्षण की सुविधा प्रदान करने के मामले में कांग्रेस व बीजेपी दोनों ही पार्टियों की सरकारें ईमानदार नहीं रही हैं. इसी कारण जाट समुदाय के लोगों को बार-बार आन्दोलन पर उतरना पड़ा और पुलिस की लाठियां भी खानी पड़ी हैं.”