नई दिल्ली. कांग्रेस की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष अजय माकन ने कहा कि पार्टी के परंपरागत मतदाता राष्ट्रीय राजधानी में पार्टी की ओर लौट रहे हैं. नगर निगम उपचुनाव में 13 वार्डो में से चार में कांग्रेस की जीत के बाद माकन ने कहा, “सफाई कर्मचारी, रेहड़ी-पटरी वाले और झुग्गी-बस्ती के लोगों सहित कांग्रेस के परंपरागत मतदाता कांग्रेस की तरफ लौट रहे हैं. इसके अलावा अल्पसंख्यक मतदाता भी कांग्रेस की ओर लौट रहे हैं.” उपचुनाव में कांग्रेस का मत प्रतिशत 24.7 रहा.
 
‘कांग्रेस का मत प्रतिशत बढ़ा’
माकन ने कहा कि जहां कांग्रेस के मत प्रतिशत में 2015 के विधानसभा चुनाव की तुलना में 22 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, वहीं आम आदमी पार्टी (आप) और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) का मत प्रतिशत क्रमश: 26 प्रतिशत और चार प्रतिशत घटा है.
 
‘मतदाताओं ने AAP को एक सिखाया सबक’
माकन ने कहा कि कमरुद्दीन नगर, मुनिरका, खिचड़ीपुर और झिलमिल ऐसे वार्ड हैं, जहां कांग्रेस ने पहली बार जीत हासिल की है. माकन ने कहा कि परिणाम स्पष्ट संकेत देते हैं कि आप और बीजेपी को अपने शासन में सुधार करना चाहिए. उन्होंने कहा, “मतदाताओं ने आप को एक सबक सिखाया है, क्योंकि राजधानी में उनके शासन में स्वास्थ्य और शिक्षा की सुविधाएं नहीं सुधरी हैं.” 
 
केजरीवाल पर लगाया आरोप
कांग्रेस नेता ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर आरोप लगाया कि वह करदाताओं के पैसे का उपयोग अपने प्रचार के लिए कर रहे हैं. माकन ने कहा, “दिल्ली सरकार ने प्रचार पर 207 करोड़ रुपये खर्च किए हैं. मलयालम, कन्नड़, पंजाबी और अन्य क्षेत्रीय भाषाओं के अखबारों में सम-विषम योजना के दौरान विज्ञापन दिए गए.” उन्होंने सवाल किया, “दिल्ली की सम-विषम योजना या दिल्ली सरकार द्वारा लागू किसी अन्य कार्यक्रम से कर्नाटक या केरल के लोगों का क्या लेना-देना?”