वाराणसी. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के दौरे पर हैं. नीतीश ने वाराणसी में गंगा नदी के तट पर पूजी की और उसके बाद में संकट मोचन पहुंचे.
 
बता दें कि नीतीश ने गंगा अवतरण दिवस पर गंगाा विधि से पूजन किया. इस बीच उन्होंने कहा कि गंगा का अस्तित्व खतरे में है. साथ ही गंगा की अविरलता के लिए उन्हें बांधों से मुक्त कराया जाना चाहिए. नीतीश ने कहा कि मैने भी गंगा किनारे जन्म लिया है और मैं इस
पवित्र से जुड़ा हुआ हूं. साथ ही मेरा कॉलेज भी गंगा के पास था तो मैं यहां आकर समय बिताना बहुत पसंद करता था.
 
नीतीश उत्तर प्रदेश में आने वाले 2017 के विधानसभा चुनाव का बिगुल फूंकने के लिए काशी जा रहे हैं. खबर है कि वह वहां मोदी सरकार की नाकामयाबियों को जनता के सामने रखने वाले हैं. इसके अलावा वह बिहार की तरह उत्तर प्रदेश में भी शराबबंदी पर बात करने वाले हैं.  
 
बता दें कि इससे पहले उत्तर प्रदेश में बीजेपी के अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य को भी एक पोस्टर में भगवान कृष्ण के रूप में दिखाया गया था और उत्तर प्रदेश को द्रोपदी के रूप में दिखाया गया था. पोस्टर में उत्तर प्रदेश का चीर हरण अखिलेश यादव, राहुल गांधी और मायावती कर रहे थे.