देहरादून. उत्तराखंड में सियासी उबाल एक बार फिर से चरम पर है. विश्वास मत परीक्षण से एक दिन पहले कथित तौर पर एक और स्टिंग सामने आया है. इस वीडियो में कांग्रेस विधायक के साथ बातचीत को दिखाया गया है. इस स्टिंग में हरीश रावत पर विधायकों को 25-25 हजार रुपये बांटने का आरोप है.
 
इसी बीच पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने केंद्रीय जांच एजेंसियों द्वारा विधायकों पर प्रताड़िता करने का आरोप भी लगाया है. उन्होंने रविवार को देहरादून में संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा, “हमारे विधायकों और नेताओं को धमकाया जा रहा है. उन्हें कभी रिश्तेदार के नाम से, तो कभी जान-पहचान वाला बनकर धमकी भरे संदेश भेजे जा रहे हैं.”
 
बता दें कि हरीश रावत को सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद 10 मई को विधानसभा में बहुमत साबित करना है.
 
क्या था मामला?

उत्तराखंड में 27 मार्च से राष्ट्रपति शासन लागू है. जिसको लेकर अभी सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है. अब इस मामले में शुक्रवार को सुनवाई होगी. कांग्रेस के 9 विधायकों ने अपनी ही सरकार से बगावत कर दी थी. जिसके बाद उत्तराखंड में कांग्रेस सरकार अल्पमत में आ गई और केंद्र सरकार ने राष्ट्रपति शासन लगा दिया था.