नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को सरकार के कार्यकाल के दो साल पूरे हाने पर एक बैठक बुलाई. इस बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सांसदों का मार्गदर्शन किया. मोदी ने अपने मंत्रियों और सांसदों को सलाह देते हुए कहा कि सरकार की योजनाओं को भाषण से सामने मत रखिए क्योंकि लोग भाषण सुनते हैं और भूल जाते हैं. वास्तिवक चीजों को जनता के सामने लाया जाए.
 
इस बैठक में सरकार की ‘फ्लेगशिप योजनाओं’ में लाभान्वित हुये निचले तबके की बात भी की गई. इस योजना के तहत दलित, किसान, महिला और युवाओं को देश और मीडिया के सामने लाया जायेगा. इस योजना से लाभान्वित लोग अपने जीवन के बदलाव की कहानी खुद बतायेंगे और FB, tweet, YouTube,  etc से इनके जीवन के बदलाव की कहानी सामने रखी जायेगी. साथ ही मंत्रियों को सुझाव दिया गया कि सरकार के 2 साल पूरे होने पर केवल मेट्रो शहर में ही प्रेस कांफ्रेंस न करें बल्कि देश के 200 छोटे शहरों, जिला केन्द्रों पर भी जाकर मीडिया से बात करें.
 
उन्होंने मुद्रा योजना, एलपीजी कवरेज में वृद्धि, गांवों में विद्युतिकरण समेत अनेक जनकल्याणकारी योजनाओं का जिक्र किया और बीजेपी सांसदों से इसकी सफलता की कहानी को लोगों तक पहुंचाने को कहा.
 
बीजेपी संसदीय दल की बैठक में प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार लोगों की उम्मीदों और आकांक्षाओं को पूरा करने को प्रतिबद्ध है. बता दें कि बैठक में प्रधानमंत्री के अलावा पार्टी अध्यक्ष अमित शाह और सरकार एवं पार्टी के शीर्ष नेताओं ने भी हिस्सा लिया.
 
बता दें कि बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और बीजेपी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने जनसंघ के नेता बलराज मधोक को श्रद्धांजलि अर्पित की जिनका 2 मई को निधन हो गया था.