तिरुवनंतपुरम. पूर्व रक्षा मंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता ए.के. एंटनी ने शनिवार को नरेंद्र मोदी सरकार से आग्रह किया कि उसे अगस्तावेस्टलैंड हेलीकॉप्टर सौदे में रिश्वत लेने वालों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए. केरल में विधानसभा चुनाव के प्रचार के दौरान एंटनी से 2010 में हुए 3600 करोड़ रुपये के हेलीकॉप्टर सौदे के बारे में सवाल पूछे गए.
 
एंटनी ने कहा, “सीबीआई, प्रवर्तन निदेशालय और सभी संबंधित एजेंसियां अभी मोदी सरकार के अधीन हैं. रिश्वत देने वालों के खिलाफ कार्रवाई हुई है, इसलिए रिश्वत लेने वालों पर भी कार्रवाई होनी चाहिए.” जिस समय यह घोटाला उजागर हुआ था, उस समय एंटनी रक्षामंत्री थे. उन्होंने कहा कि अगस्तावेस्टलैंड कंपनी अब मोदी सरकार के ‘मेक इन इंडिया’ अभियान से जुड़ी हुई है. 
 
एंटनी ने आगे कहा, “हम सरकार से अनुरोध करते हैं कि इस कंपनी को मेक इन इंडिया अभियान में शामिल नहीं किया जाए.” उन्होंने कहा कि इटली की अदालत में सुनवाई के दौरान केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और रक्षा मंत्रालय के अधिकारी हर स्तर पर उपस्थित थे. सभी गवाहों से जिरह किया गया, लेकिन उस समय तो किसी का नाम सामने नहीं आया था. एंटनी ने जोर देकर कहा, “रिश्वत देने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की गई है और अब रिश्वत लेने वालों के खिलाफ कार्रवाई होनी है.”
 
बता दें कि हेलीकॉप्टर सौदे पर गत सप्ताह से संसद के भीतर और बाहर कांग्रेस और बीजेपी दोनों एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगा रहे हैं.