नई दिल्ली. केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने भारत माता की जय विवाद में कहा है कि फड़णवीस और रामदेव के बयान निजी हैं सरकारी नहीं. नायडू ने कहा है कि इस विषय पर सरकार ने अभी तक कोई परिपत्र जारी नहीं किया है. बता दें कि हाल में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और योग गुरु रामदेव बाबा ने भारत माता की जय न बोलने वाले विवाद में तीखी बयानबाजी की थी. जिसके बाद से ही सरकार की तीखी आलोचना की जा रही थी.
 
नायडू ने मामले पर सफाई देते हुए कहा, ‘फडणनवीस के विचार निजी हैं. मैं उनसे सहमत नहीं हूं. क्या सरकार ने अभी तक कोई परिपत्र जारी करके ऐसा कहा है कि जो भारत माता की जय नहीं बोलेगा उसे देश में रहने का हक नहीं है?’. नायडू ने कहा कि भारत माता की जय बोलना बाध्यकारी नहीं है. सरकार ने ऐसा करने के लिए किसी पर कुछ भी थोपा नहीं है. उन्होंने कहा की यह एक भावनात्मक मुद्दा है और सभी की भावनाओं को ध्यान में रखा जाना चाहिए. 
 
नायडू ने रामदेव द्वारा दिए गए बयान पर असहमति जताते हुए कहा है कि रामदेव ने जो भी बातें कही है वह उनके अपने विचार हैं. 
 
बता दें कि कुछ दिनों पहले महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने भारत माता की जय बोलने वाले विवाद में अपनी टिप्पणी देते हुए कहा था कि जो कोई भी भारत माता की जय नहीं बोलेगा उसे देश छो़ड़ देना चाहिए. वहीं बाबा रामदेव ने कहा था कि कानून नहीं होता तो भारत माता की जय कहने से इनकार करने वालों के सिर कलम कर दिये जाते.