पटना. बीजेपी सांसद और अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा ने दिल्ली और मुंबई के बाद पटना में अपनी पुस्तक ‘एनीथिंग बट खामोश’ का विमोचन किया. इस मौके पर  फिल्मी जगत की कई नामचीन हस्तियों के साथ बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव भी मौजूद थे. दोनों नेताओं ने इस मौके पर मजाक मजाक में ‘बिहारी बाबू’ शत्रूघ्न सिन्हा के ऊपर खूब कसीदे गढ़े. 
 
लालू ने शत्रु से की चुप्पी तोड़ने की अपील
 
इस मौके पर राजद प्रमुख लालू यादव ने कहा कि शत्रुघ्न सिन्हा अच्छे इंसान हैं और उनका इस्तेमाल किया गया है. उन्होंने शत्रुघ्न सिन्हा से पूछा कि वह कब तक खामोश रहेंगे? चुप्पी तोड़िए और देश को दिशा को दीजिए. लालू ने कहा कि नो रिस्क नो गेन. बैठे रहेंगे तो बैठे रह जाएंगे. चुप्पी तोड़िए हमलोग साथ हैं. लालू ने सिन्हा से चुप्पी तोड़ने की अपील करते हुए कहा कि पटना की मछुआ टोली के महंगू होटल से मुंबई की फिल्मी दुनिया में अपना मुकाम बना पाना इतना आसान नहीं था. इन्हें अब अपनी खामोशी तोड़नी चाहिए.
 
नीतीश ने सिन्हा को बताया अच्छा इंसान
 
लालू द्वारा सिन्हा के कसीदे गढ़ने के बाद सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि लालू जी शत्रुघ्न सिन्हा को जितना भी चढ़ा ले वह नहीं चढ़ेंगे. उन्होंने कहा कि बिहारी बाबू अपने हिसाब से फैसला लेंगे. लेकिन वह जो भी फैसला लेंगे हम उनके साथ हैं. मुख्यमंत्री ने कहा, ‘शत्रुघ्न सिन्हा को हमेशा सच बोलने वाले हैं. हालांकि मुझे कभी कभी लगता है कि वो इतना क्यों बोलते हैं?’.
 
शत्रुघ्न बोले, कई मुसीबतों को पार किया
 
शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि उनकी राजनीतिक और फिल्मी यात्रा में कोई दूर-दूर तक रिश्तेदार नहीं था. उन्होंने कहा, ‘मेरे परिवार में एमएलए और एमएलसी तो दूर की बात है एक वार्ड सदस्य तक नहीं है. सामाजिक जिम्मेदारी के साथ अपनी कला की ऊंचाई पर रहते हुए मुसीबतों को पार किया है’. 
 
BJP थी नदारद
 
किताब के विमोचन के अवसर पर पूर्व विधायक संजय टाइगर और प्रेमरंजन पटेल को छोड़कर भाजपा का एक भी नेता मौजदू नहीं था. जबकि जदयू के पवन वर्मा, श्याम रजक, संजय सिंह समेत कई लोग मौजूद थे.