नई दिल्ली. अमेठी में फूड पार्क रद्द होने का मुद्दा आज कांग्रेस उपाध्यक्ष और स्थानीय सांसद राहुल गांधी ने उठाया. राहुल गांधी ने कहा कि सरकार अमेटी में फूड पार्क रद्द करके बदलाव की राजनीति नहीं बल्कि बदले की राजनीति कर रही है. राहुल गांधी ने ‘बदले की राजनीति नहीं करने ’ के प्रधानमंत्री मोदी के वादे की याद दिलाते हुए आज आग्रह किया कि उनके चुनाव क्षेत्र अमेठी में प्रस्तावित फूड पार्क को रद्द नहीं किया जाए. सरकार ने हालांकि किसी बदले की भावना से इंकार करते हुए आश्वासन दिया कि वह इस मामले को देखेगी.
 
कांग्रेस नेता ने अमेठी में प्रस्तावित फूड पार्क को रद्द नहीं करने की मांग करते हुए कहा, ‘राजनेताओं के पास अपने वादे ही होते हैं. सबसे जरूरी वादा पीएम का होता है.’ उन्होंने कहा कि पीएम ने वादा किया है कि वह बदले की राजनीति नहीं करेंगे. उन्होंने कहा, ‘इसलिए अमेठी फूड पार्क को रद्द मत कीजिए.’ राहुल गांधी ने शून्यकाल में लोकसभा में यह मुद्दा उठाया और परोक्ष रूप से मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में उनके निर्वाचन क्षेत्र अमेठी में प्रस्तावित ‘फूड पार्क ’ को रद्द कर दिए जाने की उन्हें जानकारी मिली है.
 
लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अमेठी में हुई चुनावी रैली में दिए गए भाषण का जिक्र करते हुए राहुल गांधी ने कहा,‘‘अमेठी में प्रधानमंत्री ने जो भाषण दिया था , उसकी एक बात मुझे अच्छी लगी थी. उन्होंने कहा था कि मैं बदले की नहीं बल्कि बदलाव की राजनीति करने आया हूं.’’
 
गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने राहुल गांधी द्वारा उठाए गए मुद्दे का जवाब देते हुए कहा कि इस फूड पार्क को सैद्धांतिक रूप से वर्ष 2010 में मंजूरी दी गयी थी लेकिन पिछले तीन चार सालों में क्या हुआ, वह इसमें नहीं जाएंगे और इस मामले को देखेंगे कि इसमें क्या हुआ है. उन्होंने राहुल गांधी को व्यक्तिगत रूप से इस मामले को देखने का आश्वासन दिया.
  
इससे पूर्व राहुल गांधी ने अपने क्षेत्र के किसानों की दयनीय हालत का जिक्र करते हुए कहा कि वह पिछले दिनों अपने निर्वाचन क्षेत्र में गए थे जहां किसानों ने उनसे सवाल किया था कि वे जो आलू बेचते हैं वह दो रूपये किलो के भाव से बिकता है लेकिन उन किसानों के बच्चे जो चिप्स का एक पैकेट खरीदते हैं वह दस रू का मिलता है जिसमें केवल एक आलू के चिप्स होते हैं. राहुल गांधी ने व्यंग्यात्मक लहजे में कहा कि यह क्या जादू है कि किसान से दो रूपये किलो खरीदे जाने वाले आलू का चिप्स दस रूपये में बिकता है. उन्होंने कहा कि अमेठी में फूड पार्क बनने से आसपास के लाखों किसानों को फायदा होगा और अमेठी के लोगों के जीवन में बदलाव आएगा.
 
राजनाथ सिंह ने राहुल गांधी के सवाल के जवाब में कहा कि यह जादू उनकी सरकार ने नहीं बल्कि पिछली सरकार ने किया है.गृह मंत्री ने राहुल के आरोपों से इंकार करते हुए कहा, ‘‘ बदले का तो सवाल ही नहीं खड़ा होता. हम देश का विकास करना चाहते हैं. लेकिन अकेले सत्ताधारी दल ऐसा नहीं कर सकता इसके लिए सबका साथ जरूरी है.’’

IANS