नई दिल्ली. मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने देवी दुर्गा और दानव महिषासुर के बारे में जो टिप्पणी की थी, उसे राज्यसभा के सभापति एम. हामिद अंसारी के निर्देश पर राज्यसभा के रिकार्ड से हटा दिया गया. एक आधिकारिक बयान में यह जानकारी दी गई है.
 
ईरानी ने जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के मामले और हैदराबाद यूनिवर्सिटी में दलित छात्र रोहित वेमुला की आत्महत्या पर सदन में हुई बहस का जवाब देते हुए जेएनयू में महिषासुर की मौत का स्मरणोत्सव मनाने का हवाला दिया था. साथ ही एक पर्चे को पढ़ा था जिसके बारे में उन्होंने कहा कि मैंने ये इसलिए पढ़ा कि मुझसे सबूत मांगे गए थे. उसकी यूनिवर्सिटी ने पुष्टि की है. ये सराकारी दस्तावेज नहीं है. 
 
विपक्षी सदस्यों ने इस पर हंगामा किया था. कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने यह कह कर इसका विरोध किया था कि इससे देवताओं और पैगंबरों को अपमानित करने की एक खराब शुरुआत हो जाएगी. इस मुद्दे पर शुक्रवार को भी हंगामा हुआ. विपक्ष के सदस्यों ने ईरानी से अपनी टिप्पणी के लिए माफी मांगने को कहा. 
 
ईरानी ने माफी नहीं मांगी और कहा कि वह खुद देवी दुर्गा की पूजा करती हैं. इस संदर्भ का उल्लेख उन्होंने सिर्फ एक बिंदु को साबित करने के लिए किया था.