चंडीगढ़. आम आदमी पार्टी (आप) के नेता और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविद केजरीवाल ने आप के लिए राजनीति संभावनाओं को बढ़ाने के लिए गुरुवार को पंजाब का अपना पांच दिवसीय दौरा शुरू कर दिया. वहीं पंजाब कांग्रेस ने केजरीवाल के दौरे को नाटकीय करार दिया. केजरीवाल दिल्ली से एक नियमित उड़ान के जरिए यहां पहुंचे और उसके तुरंत बाद पंजाब के संगरूर शहर के लिए रवाना हो गए. यहां उनका पंजाब इकाई के शीर्ष आप नेताओं और दिल्ली के कुछ पार्टी नेताओं ने स्वागत किया.
 
केजरीवाल ने यहां पहुंचने के बाद बताया, “मैं आज अपना पांच दिवसीय पंजाब दौरा शुरू कर रहा हूं. मैं गांवों का दौरा करूंगा और आम लोगों से मिलूंगा.” उन्होंने कहा, “हम नशे की लत से प्रभावित हुए परिवारों से मुलाकात करेंगे. हम उनकी समस्याओं को समझने की कोशिश करेंगे. हम आत्महत्या करने वाले किसानों के परिवार से मिलेंगे और उनकी समस्याएं भी समझेंगे. आप का फलसफा है कि हम लोगों से मिलें, उनकी समस्याएं सुनें और समाधान निकालें.” 
 
केजरीवाल अपने इस दौरे के दौरान पंजाब के तीन क्षेत्रों-मालवा, माझा और दोआबा की यात्रा करेंगे. 
 
वह 26 फरवरी को फिरोजपुर और फरीदकोट जिले, 27 फरवरी को गुरदासपुर और अमृतसर जिले, 28 फरवरी को होशियारपुर और जालंधर जिले और आखिर में 29 फरवरी को लुधियाना, फतेहगढ़ साहिब और पाटियाला जिलों का दौरा करेंगे.
 
पूर्व में पंजाब में कांग्रेस नेताओं ने कहा था कि अगर आप ने राज्य में अपने एजेंडे में बदलाव नहीं किया तो वह केजरीवाल के दौरे का विरोध करेंगे. कांग्रेस नेता और लुधियाना से सांसद रवनीत सिंह बिट्टू ने कहा था, “केजरीवाल को पंजाब के लोगों के जज्बातों को भड़काकर आग से नहीं खेलना चाहिए. यह आप द्वारा की जा रही राजनीति का बहुत ही खतरनाक स्टाइल है.”