नई दिल्ली. संसद के बजट सत्र के आज दूसरे दिन राज्यसभा जेएनयू विवाद और रोहित वेमुला की खुदकुशी के मुद्दे को लेकर गूंज उठा. बसपा प्रमुख मायावती ने राज्यसभा में हैदराबाद और जेएनयू मुद्दे को उठाते हुए मोदी सरकार पर जमकर हमला किया. उन्होंने कहा कि दलितों के लिए घातक है ये सरकार. हर जगह दलितो के साथ भेदभाव हो रहा है. हैदराबाद यूनिवर्सिटी में दलित छात्रों का उत्पीड़न हो रहा है. रोहित अंबेडकर की विचारधारा पर चलने वाला छात्र था इसलिए उसके साथ ऐसी घटना हुई. रोहित को खुदकुशी के लिए मजबूर किया गया. मायावती ने कहा कि आरएसएस अपनी विचारधारा थोपने में लगी है. 
 
कांग्रेस पर भी साधा निशाना
मायावती ने कांग्रेस पर भी निशाना साधते हुए कहा कि ऐसा कांग्रेस की सरकार में भी हुआ है. रोहित वेमुला के पहले भी हैदराबाद में दलित छात्रों के साथ उत्पीड़न की घटना हुई है. इसके अलावा मायावती सभापति के कहने पर भी चुप ना होकर जोरशोर से दलित छात्रों को मामला सदन में उठा रहीं हैं. साथ ही बसपा सांसदों ने सदन में ‘दलित विरोधी यह सरकार नहीं चलेगी’, ‘बीजेपी आरएसएस मुर्दाबाद’  जैसे नारे भी लगाए. 
 
वेल में आकर की नारेबाजी
बीएसपी के सांसद वेल में आकर बीजेपी, आरएसएस के खिलाफ नारे लगाने लगे. उप सभापति की बात का भी किसी पर कोई असर नहीं हुआ . रोहित, जेएनयू पर चर्चा 2 बजे होनी थी लेकिन हंगामे के बाद सरकार रोहित वेमुला को लेकर  इसी वक्त चर्चा को तैयार है . कांग्रेस भी अभी ही चर्चा को तैयार है लेकिन मायावती के सांसदों के हंगामे की वजह से कार्यवाही 10 मिनट के लिए स्थगित की गई.
 
2 बजे शुरु होगी चर्चा
राज्यसभा में चर्चा दोपहर 2 बजे शुरु होगी. चर्चा का जवाब गृहमंत्री राजनाथ सिंह देंगे. इसी विषय पर लोकसभा में चर्चा गुरुवार को होगी. लोकसभा में आज आज राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा शुरु होगी. बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा को शुरुआत करेंगी.
 
क्या है मामला?
रोहित समेत अंबेडकर छात्र संगठन के उसके साथी छात्रों पर एबीवीपी के छात्र नेता सुशील कुमार के साथ मारपीट के आरोप लगे थे. इसी को आधार बनाकर इन छात्रों को निलंबित किया गया था. जिसके बाद रोहित ने आत्महत्या कर ली थी.