लखनऊ. उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस ने मिशन-2017 के तहत अपनी निगाहें दलितों की ओर घुमा दी हैं. कांग्रेस को लगता है कि यदि उप्र के दलितों को साध लिया जाए तो वह यहां अपनी नैया पार लगा सकती है. यही कारण है कि कांग्रेस पार्टी ने सूबे की राजधानी में ‘दलित कान्क्लेव’ के आयोजन का निर्णय लिया है. 
 
इसी महीने 18 फरवरी को होने वाले इस कान्क्लेव में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की मौजूदगी रहेगी. इसके अलावा उप्र कांग्रेस ने राहुल के लखनऊ आगमन पर उनके भव्य स्वागत का निर्णय लिया है.
 
पार्टी के प्रदेश मुख्यालय में होने वाले ‘दलित कान्क्लेव’ की सफलता के लिए रविवार को अनुसूचित जाति विभाग के चेयरमैन भगवती प्रसाद चौधरी की अध्यक्षता में अनुसूचित जाति विभाग के संयोजकों एवं उपाध्यक्षगों के साथ एक तैयारी बैठक हुई. बैठक में मुख्य अतिथि के रूप में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. निर्मल खत्री मौजूद रहे. 
 
इस मौके पर प्रदेश भर के दलित वर्ग के प्रतिनिधियों को प्रदेश पदाधिकारियों को कान्क्लेव में लाने की जिम्मेदारी सौंपी गई है. इसके अलावा सभी प्रदेश पदाधिकारियों को होर्डिगों एवं बैनरों, तिरंगी झंडियों से रास्ते भर में एवं पूरे शहर को सजाने का निर्देश दिया गया.
 
बैठक को संबोधित करते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. खत्री ने कहा कि सभी पदाधिकारी दलित कान्क्लेव को सफल बनाने में जुट जाएं और प्रदेश के कोने-कोने से आने वाले प्रतिनिधियों को किसी भी प्रकार की असुविधा न हो, इसके लिए व्यवस्था करें.